Thursday, April 28, 2011

मोतीलाल साँप वाला किसी को धोखा नहीं देता, कभी झूठ नहीं बोलता...

पाँचवीं क्लास तक स्कूल घर से बिलकुल पास ही था, शहर में हमारे घूमने फिरने का दायरा सीमित था। जैसे ही छठी कक्षा में प्रवेश लिया। हम मिडिल स्कूल जाने लगे। यह शहर के दूसरे छोर, रेलवे स्टेशन से कुछ ही पहले था। पर अब रेलवे स्टेशन तक हमारे घूमने फिरने की जद में आ गया था। स्कूल जाने के लिए हमें शहर के पूरे बाजार को पार करना पड़ता था। स्टेशन से मांगरोल जाने वाली सड़क बहुत चौड़ी थी। दुकानों और इमारतों से सड़क के बीच दोनों ओर बहुत स्थान बच रहता था। वहाँ लोग जमीन पर अस्थाई रूप से दुकान लगा लेते। अजीब अजीब चीजों की दुकानें हुआ करती थीं। पुरानी किताबों की दुकानें, जिन में कॉमिक्स और कार्टूनों वाली किताबें, ऐसी रहस्यमय किताबें जिन्हें दुकानदार छिपा कर रखता था बिका करती थीं और केवल बड़ी उम्र वालों को ही बेचता था। कलेंडरों और चित्रों की दुकानें, नए सामानों की दुकानें आदि आदि। कभी कभी सड़क के किनारे मजमा लगा होता।  कोई धुलाई का पाउडर बेच रहा होता। एक बरतन में धुलाई का पाउडर पानी में घोलता और फिर एक साफ दिखने वाला कपड़ा उस में डालता और घुमाता। थोड़ी देर में कपड़ा उस में से निकाल कर निचोड़ता तो पानी एक दम काला पड़ जाता। दर्शक आश्चर्य में डूब जाते कि इस साफ दिखने वाले कपड़े में इतना मैल था! फिर कपड़े को एक-दो बार फिर साफ पानी में निचोड़ा जाता। यह पानी भी मैला हो जाता, तब और आश्चर्य होता। सब से अधिक आश्चर्य तो तब होता जब वह कपड़ा वैसा उजला हो जाता जैसे अभी बजाज की दुकान से खरीदा हो।

क बार एक मूँछ वाला काला सा अधेड़ आदमी सड़क के किनारे मजमा लगाए हुए था। दो-तीन साँप बंद करने वाली बाँस की बनी टोकरियाँ रखी थीं। कुछ और सामान रखा  था जिन में तस्वीर में जड़े कुछ प्रमाण पत्र थे जो कलेक्टर, उप कलेक्टऱ, बड़े स्कूल के प्रिंसिपल आदि जैसे बड़े लोगों द्वारा दिए गए थे। मूँछ वाला खड़े हो कर प्रवचन जैसा कर रहा था। कुछ बच्चे उसे जिज्ञासा से सुनने खड़े हो गए थे। मैं भी वहीं खड़ा हो गया। वह बोल रहा था...

-हाड़ौती के तीनों जिलों में एक नाम मशहूर है, मोतीलाल साँपवाला। जानते हो कौन है मोतीलाल साँपवाला? लोग किसी को जहर दे कर मार देते हैं। किस के लिए? धन के लिए, दौलत के लिए, औरत के लिए। औरत अपने आदमी को जहर दे देती है, अपने यार के लिए। बेटा बाप को जहर दे देता है उस की दौलत के लिए। भाई भाई को जहर दे देता है दौलत के लिए। बिलकुल कलयुग आ गया है, कोई किसी का भरोसा नहीं कर सकता। लेकिन लोग मोतीलाल साँपवाला का भरोसा करते हैं। वह किसी को धोखा नहीं देता, वह कभी झूठ नहीं बोलता। कोई किसी को जहर दे तो मोतीलाल साँपवाला उस का जहर खींच कर बाहर निकाल देता है। आदमी को मरने से बचा लेता है। जानते हो कौन है मोतीलाल साँपवाला? जो जानते हों हाथ खड़े करें!

क भी हाथ खड़ा नहीं हुआ। वह फिर कहने लगता - सब नए लोग हैं, पुराने होते तो तुरंत बता देते। तो जान लो मोतीलाल साँपवाला आप के सामने खड़ा है। यह कह कर उस ने अपनी लम्बी मूंछों पर ताव दिया। मैं समझ गया यह खुद के बारे में कह रहा है। 
-यह मोतीलाल साँप पालता है, जहर पैदा करने वाले को पालता है। आप जानते हैं इन टोकरियों में क्या है? इन में साँप हैं। जीवित साँप। मोतीलाल आप को दिखाएगा, जिन्दा साँप। उस ने एक टोकरी हाथों में उठाई और बोलने लगा। उस ने तब क्या बोला, यह मुझे अब याद नहीं आ रहा। वैसे भी मेरा ध्यान उस की बातों से हट कर टोकरी पर केंद्रित हो गया था। उस ने टोकरी का ढक्कन नहीं खोला, बोलते हुए वापस रख दी। फिर कहने लगा
-बहुत सपेरे आते हैं। साँप का खेल दिखाते हैं, चादर बिछा कर दान माँगते हैं और चले जाते हैं। उन के साँपों के जहर के दाँत निकाले हुए होते हैं। लेकिन मोतीलाल साँपवाला साँप के जहर के दाँत नहीं निकालता। साँप का जहर निकाल लो तो साँप फिर टोकरी के बाहर जिन्दा नहीं रह सकता। उसे कोई भी मार देगा। मोतीलाल के साँप जहर वाले हैं। मोतीलाल साँप का खेल नहीं दिखाता। साँपों से प्यार करता है। इतना कह कर उस ने एक टोकरी का ढक्कन हटाया। उस में एक बड़ा सा साँप कुंडली मार कर बैठा था। उसे रोशनी मिलते ही उस ने फन उठाया और आसपास देखने लगा। मोतीलाल फिर बोलने लगा...

-साँप जब तक इस टोकरी में है आप सुरक्षित हैं। यह बाहर निकला तो किसी को भी काट सकता है। इसे इस टोकरी में ही रहने दिया जाए। इतना कह कर उस ने उस टोकरी का ढक्कन बंद कर दिया। यह मोतीलाल जादू जानता है। वह चमत्कार करना जानता है। इस ने बहुत खेल दिखाए हैं। ये सब प्रमाण पत्र उन्हीं खेलों से चकित और प्रसन्न हो कर बड़े-बड़े लोगों ने दिए हैं...... उस ने एक प्रमाण पत्र हाथ में उठा कर दिखाया। यह फलाँ स्कूल के हेडमास्टर ने दिया है। इस तरह उसने सारे प्रमाणपत्र दिखाए और उन्हें देने वालों के बड़प्पन के बारे में व्याख्यान दिया।

-मोतीलाल साँपवाला आप को भी जादू दिखाएगा। वैसे दुनिया में कोई जादू नाम की कोई चीज नहीं होती,  चमत्कार नाम की कोई चीज नहीं होती। फिर भी आप जादू और चमत्कार देखते हैं, आप चकित हो जाते हैं। पर ये सब साइंस और हाथ की सफाई होती है। मोतीलाल साँपवाला आज आप को जादू दिखाएगा ही नहीं जादू सिखाएगा भी ........ वह बोलता रहा, भीड़ चमत्कृत सी सुनती रही। मैं भी उस शख्सियत से चमत्कृत हो गया था,  सब से अधिक तो उस की लच्छेदार भाषा से। मैं सोच रहा था इतना अच्छा बोलना मुझे भी आता तो मैं स्कूल के सारे मास्टरों पर जादू कर देता, सारे स्कूल के बच्चों को चमत्कृत कर देता।

ह बाँए हाथ का अंगूठा दिखाते हुए बोल रहा था -मेरा यह अंगूठा कट गया था। मैं ने कटे हुए को संभाल कर रखा। उसे मसाला लगा कर ऐसा कर दिया कि वह मरा हुआ न लगे, जिन्दा लगे। फिर मैं ने उसे उस की जगह चिपका दिया। देखिए जनाब! मेरा बाँए हाथ का अंगूठा देखिए! कैसा लगता है? जिन्दा या मरा हुआ? उस ने एक बड़े आदमी के सामने अपना बाँए हाथ का अंगूठा आगे कर कहा -इसे दबा कर देखिए... डरिए नहीं, दबा कर देखिए! उस आदमी ने दबा कर देखा, फिर दाहिने हाथ का अंगूठा दिखाया, दोनों एक जैसे थे।
उस आदमी ने कहा -यह कटा हुआ नहीं है। तुम झूठ बोलते हो।

स का प्रवचन फिर शुरू हो गया -मोतीलाल साँपवाला कभी झूठ नहीं बोलता। वह साबित कर देगा कि उस का अंगूठा कटा हुआ है। वह कटे हुए हिस्से को अलग कर के दिखाएगा। लेकिन उस के लिए आप सब को मेरे सामने आना होगा। मेरे पीछे कोई और रहा और अंगूठा वापस जोड़ने के पहले हिला भी तो अंगूठा अलग होने के बाद फिर नहीं जुड़ पाएगा। आप में से कोई नहीं चाहेगा कि मोतीलाल का अंगूठा कटा हुआ रह जाए। इस लिए सब सामने आ जाएँ। उस ने सारे दर्शकों को आपने सामने कर दिया। फिर बाँए हाथ का अंगूठा दाहिने हाथ से पकड़ा और अलग कर दिया। अब बाएँ हाथ का कटा हुआ अंगूठा उस के दाएँ हाथ में था।
 
मैं चमत्कृत था। लोग जड़ हो गए थे, जरा भी हिल नहीं रहे थे। मेरी तो साँस तक रुक गई थी। फिर उस ने अंगूठा वापस बाँए हाथ में चिपका दिया। दोनों हाथ दिखाए। दोनों हाथों के अंगूठे एक जैसे और जीवित थे।  वह फिर बोलने लगा।
-सही और सच बात तो यह है कि मोतीलाल झूठा आदमी है। उस ने झूठ बोला कि उस का अंगूठा कटा हुआ है। उस का अंगूठा कभी नहीं कटा, कभी हाथ से अलग नहीं हुआ। लेकिन आप ने अलग होते हुए देखा। जो देखा वह आप की आँखों का भ्रम था। आप की आँखों का भ्रम ही आप के लिए जादू है, चमत्कार है। यह वही चमत्कार है जिसे दिखा कर लोग लाखों कमाते हैं। झूठे लोग चमत्कारी साधु हो जाते हैं और लोगों से धन ठगते हैं। फिर लाखों ठगते हैं,  एक दिन लखपती बन जाते हैं। उन से बड़े धोखेबाज, भगवान बन जाते हैं। लोगों से अपनी पूजा कराते हैं। वे सब से बड़े झूठे, मक्कार और धोखेबाज हैं। पर मोतीलाल साँपवाला झूठा, मक्कार और धोखेबाज नहीं है। वह बताएगा कि उस ने कैसे अंगूठे को हाथ से अलग करने का चमत्कार दिखाया। वह आप को सिखाएगा कि कैसे यह चमत्कार किया जाता है।

फिर उस ने ट्रिक बताई, और सिखाई। मैं ने भी उसे मनोयोग से सीखा। सब के बाद उस ने कहा - लेकिन मोतीलाल साँपवाले के भी पेट है, शरीर है, बीबी है, बच्चे हैं और एक बूढ़ी माँ भी है। मोतीलाल को उन के लिए कमाना पड़ता है। लेकिन वह धोखा दे कर, मक्कारी कर के नहीं कमाता। वह दवा बेचता है। जहर का असर खत्म करने की दवा। फिर उस ने एक सफेद कागज जमीन पर बिछा कर उस पर एक बड़े ताम्बे के पैसे (आजकल कल के रुपए का सिक्का) के बराबर की काली गोल टिकियाएँ जमा दीं।

- वह फिर बोलने लगा ये टिकिया बिच्छू के काटे की दवा है। वह एक टिकिया बेचता है सिर्फ एक चवन्नी में, अठन्नी में तीन बेचता है और रुपए की सात टिकिया बेचता है। फिर उस ने एक बिच्छू निकाला, एक आदमी को तैयार किया, उसे बिच्छू का डंक लगाया। वह आदमी कराह उठा। मोतीलाल ने झट से टिकिया को डंक वाली जगह घिसा। उस आदमी का दर्द गायब हो गया। फिर उस ने टिकिया बेचना शुरू किया। कागज पर निकाली हुई कोई पच्चीस टिकिया उस ने बेच दी। मेरे पास उस वक्त एक चवन्नी न थी, वर्ना मैं भी एक खरीद लेता। कभी बिच्छू काट ले तो काम आए। मजमा खत्म हो गया। मैं अंगूठा अलग करने वाली ट्रिक का अभ्यास करता रहा। कुछ दिन लोगों को दिखाने लगा। जिन ने मोतीलाल को ऐसा करते न देखा था वे हैरान हो जाते।

स के बाद मोतीलाल को हर साल तीन चार बार मजमा लगाते हुए देखता। उस से मैं ने तीन-चार जादू की ट्रिक्स सीखीं। फिर मालूम हुआ कि वह हमारे ही शहर का रहने वाला है। पूरी हाड़ौती में बिच्छू काटे के इलाज की टिकिया बेचता है। लगभग हर घर में उस की बेची टिकिया मिल जाती थी। जब बिच्छू किसी को काट लेता तो टिकिया के प्रयोग से आराम भी हो जाता। टिकिया न मिलती तब मरीज को अस्पताल ले जाया जाता। लेकिन उस के पहले मोतीलाल की याद जरूर आती, पास-पड़ौस में पूछा जाता कि किसी के पास बिच्छू की टिकिया है या नहीं। फिर मैं पढ़ने के लिए शहर के बाहर चला गया। बाद में काम के सिलसिले में अपना शहर छूट गया। फिर भी मोतीलाल दो-चार साल में कहीं न कहीं। मेले-ठेले और रेल में टकरा जाता। फिर उस का दिखना बंद हो गया। एक दिन पता लगा वह मर गया। उस के बच्चे हैं। जो पढ़ लिख कर सरकारी नौकरी करने लगे हैं। पिछले पच्चीस साल से उसे मैं ने नहीं देखा, न उस के बारे में सुना।

पिछले सोमवार अदालत के केंटीन में जब हम मध्यान्ह की चाय पी रहे थे। तब वहाँ बाबा सत्य साईं के मरने की चर्चा होने लगी। तब मुझे मोतीलाल बेसाख्ता याद आया। लेकिन मुझे उस का नाम याद न आ रहा था। मैं ने उस के बारे में लोगों को बताया तो एक पैसठ वर्षीय व्यक्ति ने तुरंत उस का नाम बताया। मुझे भी उस का नाम याद आ गया। मुझे आश्चर्य हुआ कि हाड़ौती के दूसरे छोर पर रहने वाले भी उसे वैसे ही जानते थे, जैसे मैं जानता था। मोतीलाल की भाषा लच्छेदार थी। वह अपने अंदाज से लोगों को सम्मोहित कर लेता था। उसे लोगों को चमत्कृत करना आता था। लेकिन वह कभी महत्वपूर्ण आदमी नहीं बना। वह चमत्कार दिखा कर अपनी दवा बेचता रहा, पेट पालता रहा, बीबी और बच्चे पालता रहा। चमत्कारों का भेद खोलता रहा और करना सिखाता रहा। उस ने कोई शिष्य नहीं बनाया। उस का नाम कभी अखबार में न छपा, किसी किताब में न छपा। उस ने बच्चों को पढ़ाया, पैरों पर खड़े होना सिखाया, मेहनत से कमाना सिखाया और एक दिन मर गया। वह अब सिर्फ उन लोगों को याद है जिन्हों ने उसे बिच्छू काटे की दवा की टिकिया बेचते देखा था। 

Monday, April 25, 2011

कमलेश्वर महादेव (क्वाँळजी) में कुछ घंटे

क्वाँळजी शिव मंदिर
श्वरी बाबा का नौकरी का मुकदमा अभी चल रहा है। आते-आते बाबा ने पूछा उस में क्या हो रहा है? मैं ने बताया कि इस बार आप का बयान होना है, उस के लिए आना पड़ेगा। वे तारीख पूछने लगे तो मैं ने कहा मैं फोन पर बता दूंगाष बाबा ने अपने एक चेले को हमारी कार में बिठा भेजा जिस से हम से वहाँ टेक्स वसूल न किया जा सके। चेला टोल प्लाजा पर उतर गया। हम वापस लौटे, इन्द्रगढ़ को पीछे छोड़ा। कोई चार किलोमीटर चलने पर एक पुल के नीचे से रेललाइन को पार किया और सामने जंगल दिखाई पड़ने लगा। हमें कोई दस किलोमीटर और चलना था। एक वाहन चलने लायक सड़क थी। बीच-बीच में एक दो मोटरसायकिल वाले मिले। दो छोटे-छोटे गाँव भी पड़े। क्वाँळजी पहुँचने के तीन किलोमीटर पहले सवाईमाधोपुर वन्य जीव अभयारण्य आरंभ हो गया। क्वाँळजी इसी के अंदर था। 

मंदिर द्वार
दूर से ही मंदिर का शीर्ष दिखाई देने लगा था। शीर्ष पर जड़े कलात्मक पत्थर उखड़ चुके थे,अंदर ईंटों का निर्माण दिखाई दे रहा था। ठीक मंदिर से पहले एक पुल था जिस के नीचे हो कर त्रिवेणी बहती थी, जो पुरी तरह सूखी थी। पुल के पहले दाहिनी ओर एक सड़क जा रही थी जो सौ मीटर दूर जा कर समाप्त होती थी। वहीं छोटे आकार वाला बड़ा कुंड होना चाहिए था। हमने पुल पार किया। वाहन रोक दिया गया। बायीं ओर एक मैदान में पार्क करने को कहा गया। हम ने कार पार्क की तो एक सज्जन टोकन दे कर दस रुपए ले गए। बाकायदे पार्किंग की व्यवस्था थी। सड़क की दूसरी ओर चाय-पान के लिए छप्पर वाली दुकानें लगी थीं। हम सीधे मंदिर पहुँचे। मंदिर के नीचे फिर दुकानें थीं जहाँ नारियल, प्रसाद बिक रहे थे। पास ही कुछ महिलाएँ आक-धतूरे के पुष्पों की मालाएँ और विल्वपत्र भी बेच रहे थे। शोभा (पत्नी) ने नारियल, प्रसाद, मालाएँ और विल्वपत्र वह सब कुछ खरीदा जिन से शिवजी के प्रसन्न होने की संभावना बनती थी। 

द्वार का बायाँ स्तम्भ
द्वार का दायाँ स्तम्भ
मारे पास कैमरा न था, मोबाइल चार थे। जिन में से तीन में कैमरा था। सब से अच्छा वाला था बेटी पूर्वा के पास। मैं ने उस का मोबाइल थाम लिया। मंदिर की सीढ़ियों के पहले ही पुरातत्व विभाग का बोर्ड लगा था। जो सूचित करता था कि यह मंदिर उन के संरक्षण में है। मंदिर के आगे लाल पत्थरों का बना चबूतरा था, जिस पर चढ़ने के लिए पत्थरों की सीढ़ियाँ थीं। उन की घिसावट बता रही थी कि वे कम से कम सात-आठ शताब्दी पहले बनाई गई होंगी। सीढ़ियाँ धूप तप कर गर्म हो गई थीं। मैंने मंदिर के सामने से कुछ चित्र लिए, द्वार अभी सही सलामत था। मेरे हमारे पैर जलने लगे। हम ने शीघ्रता से मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश किया। अंदर ठंडक थी। गर्भगृह उज्जैन के महाकाल मंदिर से बड़ा था। उस की बनावट देख कर लगा कि वह उस से अधिक भव्य भी था। बीचों बीच लाल पत्थर का बना शिवलिंग स्थापित था। प्रवेश द्वार के सामने पार्वती की सफेद संगमरमर  की प्रतिमा थी। मैं पहले जब यहाँ आया तब यह स्थान रिक्त था। शायद प्राचीन प्रतिमा पहले किसी ने चोरी कर ली होगी। फर्श पर संगमरमर लगाया हुआ था। दीवारों पर भी जहाँ पुराने पत्थर हट गए थे वहाँ सिरेमिक टाइल्स लगा दी गई थीं। शिवलिंग के आसपास इतना स्थान था कि पचास-साठ भक्त एक साथ समा जाएँ। अंदर दो पुजारी और एक-दो दर्शनार्थी ही थे।  शोभा ने साथ लाई सामग्री से पूजा की और सामने हाथ जोड़ बैठ गईं।  मैं ने मंदिर का अवलोकन किया और कुछ चित्र लिए। मुझे स्मरण हो आया कि दाहजी (दादाजी) जब तक गैंता में रहे हर श्रावण मास में यहाँ आते रहे। वे पूरे श्रावण मास यहीं रह कर श्रावणी करते थे। शायद उन की ये स्मृतियाँ ही मुझे यहाँ खींच लाई थीं। हम पंद्रह मिनट गर्भगृह में रुके। बाहर आ कर परिक्रमा की कुछ चित्र वहाँ भी लिए। समय के साथ मंदिर का प्राचीन वैभव नष्ट होता जा रहा था। मंदिर के आसपास बने पुराने कमरों की छतें गायब थीं। लेकिन पास ही नए निर्माण हो चुके थे। 
पूजा कराते पुजारी

म मंदिर से नीचे उतरे तो सामने ही छोटा लेकिन आकार में बड़ा कुंड दिखाई दिया। कुंड में पानी था। मुझे आश्चर्य हुआ कि कुंड में पानी होते हुए भी त्रिवेणी सूखी क्यों है? सोतों पर ही कुंडों का निर्माण हुआ था।उन से निकल कर ही जल त्रिवेणी में बहता था। एक दुकानदार ने बताया कि कुंडों का पानी तो कार्तिक में ही समाप्त हो जाता है। उस के बाद तो कुंडों में नलकूप का पानी डाला जाता है जिस से दर्शनार्थी स्नान कर सकें। यह मनुष्यकृत समस्या थी। आसपास की पहाड़ियों पर स्थित जंगल कट चुके थे। ये पहाड़ियाँ ही तो वर्षा का जल अपने अंदर भरे रखती थीं जो इन कुंडों के सोतों में आता था। पहाड़ियाँ नंगी हुई तो उन की जल धारण क्षमता कम हो गई। अब कुंडों में पानी कहाँ से आता। शोभा कुंड में नीचे पानी तक उतर गई। पानी कुछ गंदला था। फिर भी उस ने श्रद्धावश अपने हाथ-मुहँ उस में पखारे। मैं ने भी उस का अनुसरण किया। बच्चे कुंड तक नहीं आए। बाहर आ कर मैं ने बड़े कुंड के लिए पूछा तो दुकानदार ने त्रिवेणी के पहले वाली सड़क का उल्लेख कर दिया।


नई स्थापित की गई पार्वती प्रतिमा
म पार्किंग तक पहुँचे। अब कुछ भूख भी लगने लगी थी। पार्किंग में ही कार के सभी दरवाजे खोल कर फल निकाल कर तराशे। मूंगफली के तले हुए दाने और मूंगफली की बनी हुई मिठाई निकाल ली गई। सब ने फलाहार किया।  वापस चले तो पुल पार करते ही कार को बड़े कुंड के मार्ग पर मोड़ दिया। कुंड देखते ही मन निराशा से भर गया। यह कुंड आकार में छोटा था और अपने महात्म्य के कारण ही बड़ा कहाता था। कुंड को पूरी तरह ध्वस्त कर चौड़ा कर दिया गया था। चौड़ा करने में जिस तरह का निर्माण किया गया था। उस की प्राचीनता समाप्त हो गई थी। यहाँ भी कुंड में नलकूप द्वारा डाला जा रहा पानी था। यात्री आ कर उसी में स्नान कर रहे थे।  लोग यहाँ पहुँचते ही सब से पहले इसी कुंड में स्नान करते, फिर मंदिर के पास बने बड़े कुंड में, उस के बाद मंदिर में दर्शन करने जाते। मुझे अब विचार आया कि हम ने तो सारी प्रक्रिया को ही उलट डाला था। इस पूरे स्थान को प्राचीन इमारतों का संरक्षण करने वाले सिद्धहस्त लोगों के निर्देशन में पुननिर्माण की आवश्यकता है। इसे प्रमुख दर्शनीय स्थल और पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जा सकता है। पर मौजूदा सरकार में ऐसी सोच होना संभव प्रतीत नहीं होता। हम वापस इंद्रगढ़ की ओर चल दिए। वहाँ अभी एक और मुवक्किल और एक वकील मित्र से मिलना था। 

सब से बायीं ओर बैठी शोभा

मंदिर के बाहर कलात्मक प्रतिमाएँ
 
मंदिर आधार पर शेष बची प्रस्तर कला


आकार में बड़ा, नाम में छोटा कुंड
(दायीं ओर नलकूप से जल लाता पाइप दिखाई दे रहा है)
नोट :  सभी चित्रों को क्लिक कर के बड़े आकार में स्पष्ट देखा जा सकता है। 


बाबा ईश्वरीप्रसाद की कॉफी और क्वाँळजी के लिए प्रस्थान

श्वरी प्रसाद केशवराय पाटन में सहकारी शुगर मिल में काम करता था। लाल झंडा यूनियन का ईमानदार नेता था। कभी उस ने भी क्रांति और समाजवाद के सपने देखे थे और उन के लिए काम भी किया था। उसे आज भी दृढ़ विश्वास है कि समाज जरूर बदलेगा। फिर अचानक इलाके में गन्ना उत्पादन घाटे का सौदा हो गया। चीनी मिल बंद होने के कगार पर पहुँच गई। एक दिन वह काम से लौटा तो थका हुआ था। कुछ पी खा कर बिस्तर पर सोया ही था कि मिल से फोन आ गया। कोई विवाद हो गया था और प्रबंधक बुला रहे थे। उस ने मना किया कि जो भी होगा सुबह देखेंगे। लेकिन ज्यादा जोर दिया तो वह चला गया। एक तो थकान, दूसरे नींद और तीसरे नशा। विवाद में प्रबंधकों के साथ खुल कर गाली-गलौच किया। प्रबंधक तो ताक में थे ही उसे आरोप लगा कर नौकरी से चलता किया। मिल बंद करना आसान हो गया। कुछ दिन मिल कॉलोनी में रहता रहा फिर गाँव लाखेरी चला गया। वहाँ एक हनुमान मंदिर पर कुछ असामाजिक लोग कब्जा करने को थे। उस ने वहाँ धूनी रमा दी और बाबा जी हो गया। मंदिर पर रामायण पाठ शुरु हो गया। लोग आने लगे तो मंदिर का जीर्णोद्धार करवा दिया। कुछ बरस पहले जब मेगा हाईवे बन रहा था तो इंद्रगढ़ से तीन किलोमीटर आगे एक हनुमान मूर्ति स्थापित थी, कोई उस की पूजा भी न करता था और वह सड़क में बाधा थी। ठेकेदार ने उसे उठा कर आगे नाले में फिंकवा दिया। गाँव वालों को पता लगा तो उन का गुस्सा भड़क उठा। पुरानी मूर्ति तो खंडित हो गई थी। वे नई ले आए और सड़क के ठीक किनारे उसे स्थापित कर दिया। मूर्ति तो स्थापित हो गई लेकिन अब उस की सुरक्षा कैसे हो? गाँव वालों को ईश्वरी बाबा की याद आ गई। उन्हें वहाँ ले गए। ईश्वरी बाबा ने 108 अखंड रामायण पाठ की घोषणा कर दी। धीरे-धीरे भक्तगण जुड़ने लगे। कोई पत्थर लाया कोई सीमेंट। मूर्ति के चारों और एक कमरा बन गया और लोहे के जंगले का दरवाजा लग गया। मंदिर तो हो ही गया। अखंड पाठ अभी चल रहा है।
टोल प्लाजा से लौटते हुए
श्वरी बाबा हमारी कार को टोल प्लाजा से मुफ्त निकाल मंदिर तक ले गए। मंदिर के पास ही एक चाय की थड़ी लगी थी। उस के अलावा कुछ नहीं था। ईश्वरी कहने लगे -आप को कॉफी पिलाने लाया हूँ। इस के पहले कॉफी तभी पी थी जब आप के पास कोटा आया था। फिर वह अपनी और मंदिर की कथा सुनाने लगे। उन्हें विश्वास था कि दो-चार बरस में मंदिर भव्य रूप ले लेगा। मैं ने कहा तुमने तो चोला ही बदल डाला -कहाँ यूनियन बाजी और कहाँ ये जटाजूट बाबा। ईश्वरी कहने लगे -कुछ भी हो मैंने लाल झंडा तो नहीं छोड़ा। जिस दिन लोग गरम होंगे  ऐसे ही लोगों को ले कर मैदान में कूद पड़ूंगा। यहाँ भी लोगों को संगठित तो कर ही रहा हूँ। मुझे लगा कि अभी भी क्रांति और समाजवाद का सपना उस की आँखों में जीवित है। कॉफी पी कर हम वहाँ से उठ लिए। हमें क्वाँळजी भी जाना था। ईश्वरी ने क्वाँळजी जाने का मार्ग बताया। 

क्वाँळजी मंदिर के बाहर एक मूर्ति
क्वाँळजी' बोले तो कमलेश्वर महादेव। यह इंद्रगढ़ से कोई पन्द्रह किलोमीटर दूर जंगल के बीच सातवीं से नवीं शताब्दी के बीच निर्मित शिव मंदिर है। बाद में 1345 में राजा जैतसिंह ने इस की मरम्मत और नवीनीकरण करवाया। (यहाँ इस के बारे में कुछ जानकारी उपलब्ध है) मैं पहले भी यहाँ दो बार जा चुका हूँ। एक बार पिताजी और माँ साथ थे। तब मेरी उम्र कोई आठ नौ वर्ष की रही होगी। तब यहाँ का दृश्य मनोरम था। एक बड़े चबूतरे पर स्थापित विशाल, भव्य और कलात्मक शिव मंदिर। पास ही तीन कुंड। जिन में एक छोटा और एक बड़ा कहलाता था। आकार में बड़े कुंड को छोटा और छोटे को बड़ा कहते थे। बड़े कुंड में लोग मृतकों की अस्थियाँ और राख डालते थे और उस का जल राख के कारण हमेशा काला रहता था। लेकिन उस कुंड में स्नान अवश्य करते थे। उस के बाद छोटे कुंड के निर्मल जल में स्नान करते। लोगों को विश्वास था कि बड़े कुंड में स्नान करने से चर्मरोग मिट जाते हैं। पास ही एक छोटी सी बारह मासी नदी बहती थी। तीन पहाड़ी सोतों का पानी उस में आता था और त्रिवेणी  कहलाती थी।  रात ठहरने को मंदिर परिसर के सिवा कुछ न था। एक पक्की धर्मशाला जातीय समुदाय द्वारा निर्मित की जा रही थी। उस बार पिताजी ने वहीं त्रिवेणी के किनारे जगरा लगा कर लड्डू-बाटी बनाए थे। उस समय की बहुत धुंधली यादें अब रह गई हैं। फिर दूसरी बार अचानक आना हुआ।

म्मा के हाथों में एक्जीमा था। दवाओं से मिट जाता था। लेकिन साल दो साल बाद फिर से निकल आता था। उस की इच्छा थी कि वह कमलेश्वर महादेव के कुंड में स्नान कर आए। शायद एक्जीमा से छुटकारा मिले। पिता जी के एक शिष्य ने जाने की योजना बनाई तो माँ ने भी उन के साथ जाना तय कर लिया। माँ तैयार हो गई। सुबह की ट्रेन से जाना था। लेकिन एक घंटे पूर्व ही पिताजी के शिष्य ने खबर भिजवाई कि उन्हें कोई जरूरी काम पड़ गया है तो नहीं जा पाएंगे। माँ का मूड खराब हो गया। मैं ने कहा मैं साथ चलता हूँ। उस बार वहाँ गया तो वहाँ अनेक धर्मशालाएँ बन चुकी थीं। कुंडों और त्रिवेणी में पानी अब भी था, पर उस की निर्मलता कम हो चली थी। माँ ने वहाँ स्नान किया दर्शन किए और हम चले आए। उस यात्रा में आगे डिग्गी के कल्याण जी और जयपुर भी गए। जयपुर में माँ ने गलता कुंड में भी स्नान किया और उसी रात दोनों हाथों का एक्जीमा भड़क उठा. तुरंत घर लौटे और डाक्टर का इलाज आरंभ करवाया। डाक्टर इलाज कर के थक चुका था। उस ने स्वयं-रक्त चिकित्सा (Autologous blood treatment) की प्राचीन पद्धति अपनाई और माँ का एक्जीमा मिट गया। अम्मा कहती है कि यह सब कमलेश्वर महादेव की कृपा है। डाक्टर को यह स्वयं-रक्त चिकित्सा पहले क्यों याद न आई। यह तीसरा मौका था जब मैं वहाँ जा रहा था। इस बार पत्नी और दोनों बच्चे साथ थे। 

Sunday, April 24, 2011

इन्द्रगढ़ और बीजासन माता मंदिर

डूंगरली, गैंता, लाखेरी, इंद्रगढ़, कमलेश्वर महादेव और श्योपुर को
एक साथ दिखाता मानचित्र 
सुबह छह बजे पत्नी शोभा ने जगाया तो कॉफी हाजिर थी। तैयार होने में फुर्ती की तब भी घर से निकलते निकलते घड़ी की सुइयाँ आठ से ऊपर निकल चुकी थीं। डेढ़ किलोमीटर दूर चंम्बल पुल पार कर पेट्रोल पम्प से पेट्रोल लिया। तब तक शोभा अपनी छोटी बहिन से बात कर चुकी थी। उस का कस्बा केशवराय पाटन कोटा से 20 कि.मी. की दूरी पर था। उस से पूछा गया कि वह भी साथ चल रही है क्या। पर वह रामनवमी का दिन था और उसे कन्याओं को भोजन कराना था वह हमारे साथ नहीं चल सकती थी। यूँ वह साथ हो जाती तो कार में एक यात्री क्षमता से अधिक हो जाता। पेट्रोल पंप छोड़ा तो सवा आठ बज चुके थे।  इंद्रगढ़ तक की हमारी यह यात्रा कुल 90 किलोमीटर की थी। सड़क काफी अच्छी थी। कोटा-लालसोट हाई-वे अभी कुछ बरस पहले ही बना है। बीच-बीच में कुछ व्यवधान अवश्य थे, लेकिन कार की गति 80-90 बनी हुई थी। हमने केशवराय पाटन को पीछे छोड़ा, फिर आया लबान गाँव और स्टेशन। यहाँ से हमारा गाँव गैंता सिर्फ नौ किलोमीटर था, बाधा थी तो केवल बीच में चंबल नदी जिस पर बरसों से पुल प्रस्तावित है। लेकिन घड़ियाल अभयारण्य होने से सर्वोच्च न्यायालय की अनुमति के लिए रुका हुआ था। पिछले सप्ताह ही सर्वोच्च न्यायालय ने इस पुल को बनाने की अनुमति प्रदान कर दी है। इस पुल के बनने के बाद झालावाड़ और बाराँ सड़क मार्ग से लालसोट, मथुरा और दिल्ली से जु़ड़ जाएंगे। हो सकता है नदी किनारे बसे गैंता को इस से पुनर्जीवन प्राप्त हो जाए।  लबान से कोई सात किलोमीटर पर सीमेंट उत्पादक नगर लाखेरी था। यहाँ आते ही मुझे अपने एक पुराने मुवक्किल ईश्वरीप्रसाद का स्मरण हुआ। मैं ने उसे फोन लगाया तो पता लगा कि वह इंद्रगढ़ से सवाई माधोपुर जाने वाले मार्ग पर इंद्रगढ़ से तीन किलोमीटर दूर किसी मंदिर में अखंड रामायण के आयोजन में व्यस्त है। हम बिना रुके इंद्रगढ़ पहुँचे तो साढ़े नौ बज चुके थे। 

इंद्रगढ़ किला
इंद्रगढ़ का राजप्रासाद
इंद्रगढ़ को बूंदी के राजकुमार इंद्रसाल सिंह ने 1605 में बसाया था। यह पहाड़ी की तलहटी में बसा छोटा सा कस्बा है। जिस की आबादी 2001 की जनगणना के अनुसार 5000 से कुछ ही अधिक थी और अभी भी 6000 के ऊपर नहीं निकली है। पहाड़ी पर छोटा किन्तु सुंदर सा किला और राजप्रासाद है जो दूर से ही दिखाई देता है। राजस्थान में अभी भी यह स्थिति है कि 15000 से अधिक आबादी के अनेक कस्बों में नगरपालिका नहीं है। लेकिन यहाँ आजादी के पहले से नगरपालिका स्थापित थी जिसे यहाँ के राजा ने स्थापित किया था। जब यह स्वतंत्र राज्य राजस्थान में विलीन हुआ तो विलीनीकरण की एक शर्त यह भी थी कि यहाँ की नगरपालिका सदैव बनी रहेगी, इसे ग्राम पंचायत में परिवर्तित नहीं किया जाएगा। इसी कारण आज तक आबादी कम होने पर भी यहाँ नगरपालिका है। इसी कारण इस नगर का स्वरूप भी पूर्ववत  बना हुआ है। हमने इंद्रगढ़ कस्बे को एक तरफ छोड़ा और वहाँ से तीन किलोमीटर दूर बीजासन माता मंदिर पहुँचे। 

मेला और पहाड़ी जिस की चोटी पर बीजासन माता मंदिर स्थित है 
मंदिर एक पहाड़ी पर ऊँचाई पर स्थित है जिस के लिए लगभग साढ़े सात सौ सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं। चढ़ाई आरंभ होने के कोई आधा किलोमीटर दूरी पर ही हमें कार छोड़नी पड़ी, आगे नवरात्र पर लगने वाला मेला चल रहा था। सड़क के दोनों ओर दुकानें सजी हुई थीं। इन में ग्रामीणों की आवश्यकताओं की वस्तुओं के अलावा खाने-पीने के सामान और माताजी की पूजा अर्चना के सामान की दुकानें थीं। दुकानदार बुला-बुला कर पूजा का सामान खरीदने का आग्रह कर रहे थे। इस मामले में शोभा चतुर थी। सब सामान कोटा से ही तैयार कर ले चली थी। मेला पार कर के हम उस स्थान पर पहुँचे जहाँ से सीढ़ियाँ आरंभ होती थीं। हमें आरंभ में कम ऊँचाई की चौड़ी सीढ़ियाँ मिलीं। लेकिन जैसे जैसे सीढ़ियाँ चढ़ते गए सीढ़ियों की ऊँचाई बढ़ती गई, और चौड़ाई घटती गई। दर्शनार्थियों की संख्या कम न थी। लगातार पीछे से लोग आते जा रहे थे। इस कारण बीच में रुकना संभव नहीं था। फिर भी किसी चौड़ी सीढ़ी पर एक मिनट साँस लेते और ऊपर चढ़ते जाते। सीढ़ियों पर हमें गेहूँ के दाने बिखरे मिले जिन्हें कुछ लोग लगातार समेट कर अपने झोलों में भरते भी जाते थे।दर्शनार्थी फिर से गेंहूँ के दाने सीढ़ियों पर बिखेर देते थे। मुझे यह कुछ अच्छा नहीं लगा। अधिकतर दर्शनार्थी अपने जूते चप्पल मेले में उतार आए थे और नंगे पैर चढ़ रहे थे। गेहूँ के दानों पर कोई फिसल भी सकता था। हम ने अपने जूते-चप्पल नहीं उतारे थे। जब मंदिर तक पहुँचने में केवल दस-बारह सीढ़ियाँ रह गईं और आने-जाने की सीढ़ियाँ अलग हुई तो हम ने अपने जूते चप्पल वहीं एक चट्टान पर खोल दिए। 
मंदिर में बीजासन माता की प्रतिमा
कुछ ही देर में हम मंदिर में थे। मंदिर दो स्तरीय था। निचले स्तर पर एक कमरे जैसा स्थान था जहाँ एक नाई बैठा कुछ भक्तों का मुण्डन कर रहा था।  पास ही एक युवक और एक महिला सिर हिला रहे थे, जैसे किसी की आत्मा उन में प्रवेश कर गई हो।  पर लोग उन की तरफ केवल एक निगाह डाल कर आगे बढ़ जाते थे। वहाँ रुकने का स्थान न था। दर्शनार्थियों का प्रवाह ऐसा था कि एक मिनट में दर्शन करें और आगे चल दें। रुकने पर मार्ग रुक जाने की संभावना थी। मंदिर के स्वयंसेवक और तैनात पुलिसकर्मी  लोगों को लगातार आगे बढ़ते रहने का निर्देश बार-बार दे रहे थे। हम लोग कुल दो मिनट मंदिर में रुके, दर्शन किए और आगे बढ़ गए। माताजी की प्रतिमा सुंदर और आकर्षक थी। लेकिन वहाँ लोग गेहूँ के इतने दाने बिखेर रहे थे कि पावों के नीचे गेहूँ ही गेहूँ महसूस हो रहा था। हालांकि लगातार लोग उन दानों को समेटते भी जाते थे। मैं सोच रहा था कि इन गेहूँ के दानों का क्या महत्व रहा होगा? (कोई पाठक बताएगा?) 

पहाड़ी के नीचे के मंदिर में बीजासन माता मंदिर
जैसे ही हम मंदिर के बाहर निकले मेरे मोबाइल की घंटी बज उठी। ईश्वरी प्रसाद का फोन था। उस ने बताया कि वह मंदिर वाली सडक जहाँ हाई-वे से मिलती है वहाँ हमारा इंतजार कर रहा है। वहाँ लाल झंड़ा लगी जीप खड़ी है वह उसी की है। मैंने उसे कहा हम आधे घंटे में उस तक पहुँचते हैं। मंदिर से नीचे उतरने में हमें अधिक समय न लगा। जैसे ही सीढि़याँ समाप्त हुई हम ने राहत की साँस ली। बच्चों ने झोले में से पानी की बोतल निकाली, हम चारों ने पानी पिया। नीचे पहाड़ी की तलहटी में माताजी का एक और मंदिर बना हुआ था। यात्रियों के साथ कुछ वृद्ध लोग भी होते हैं जो पहाड़ी नहीं चढ़ सकते, वे यहीं दर्शन कर कुछ देर विश्राम करते हैं और अपने सहयात्रियों के पहाड़ी से लौटने पर उन के साथ हो लेते हैं। हमने यहाँ भी दर्शन किए। लोग यहाँ भी गेहूँ के दाने इस तरह उछाल रहे थे कि वे मंदिर के छज्जों पर गिरें। लेकिन छज्जों से गेहूँ के दाने नीचे मंदिर के प्रवेश द्वार पर ही आ गिरते थे। वहाँ भी उन्हें समेटने के काम में कुछ लोग लगे थे। हम ने कार संभाली। हाई-वे पर पहुँचते ही हमें लाल झंडे वाली जीप मिल गई। ईश्वरी प्रसाद वहाँ न दिखे।  जैसे ही जीप के पास जा कर मैंने कार रोकी। एक आदमी जीप से उतरा और कहने लगा मैं बाबा को बुलाता हूँ। एक मिनट में ही ईश्वरी प्रसाद वहाँ हाजिर था, बिलकुल बाबा बना हुआ। सर के बाल जटा में तब्दील हो चुके थे। बदन पर एक बंडी थी और पैरों में लाल धोती लपेट रखी थी। वह मुझे बता रहा था कि वह जिस मंदिर पर 108 रामायण पाठ करवा रहा है उस से सौ मीटर पहले टोल प्लाजा है। यदि वह नहीं आता तो टोल वाले कम से कम पचास रुपए की रसीद बना देते। इसलिए खुद लेने आया है। हम उस की जीप के पीछे-पीछे चल पड़े। ...

कुछ और चित्र 

मेला और पहाड़ी पर बीजासन माता मंदिर

मंदिर के लिए आरंभिक सीढ़ियाँ
सीढ़ियों की उँचाई अब बढ़ चली
सीढ़ियों की चढ़ाई के बाद मंदिर प्रवेश के कुछ पहले
विश्राम करते माँ-बेटे
और उतरते हुए 
मंदिर से नीचे मैदान का दृश्य
मंदिर के ठीक बाहर तैनात सिपाही
इन चित्रों पर क्लिक कर के आप बड़े आकार में देख सकते हैं।

Saturday, April 23, 2011

जहाँ मैं ने पैदल चलना शुरू किया

पिछली चार पोस्टें (बाकी पूजा तू झेलपूर्वजों के गाँव में ...गैता का नगर राज्य और महाराज की बगीची और अपने पूर्वजों के गाँव की बगीची और उस के मंदिर हमारी 10 अप्रेल 2011 की  ग्राम यात्रा से संबंधित थीं। अगले दिन अवकाश नहीं था, अदालत जाना था। उस से अगले दिन रामनवमी का अवकाश था। बहुत दिनों से एक कर्ज था जिसे उतारना था। बचपन में कभी बेटी अस्वस्थ हुई थी तो अम्मा ने कहा था कि मैं ने संकल्प लिया है कि इसे एक बार अवश्य इंद्रगढ़ माताजी के यहाँ ढुकाउंगी। कमजोर और भावुक क्षणों  में ऐसे संकल्प कर लेना भारतीय जन की आम आदत है। अम्मा का घूमने का चाव भी इसी तरह पूरा होता है। यदि वे साल में ऐसे एक-दो संकल्प न करती रहती तो शायद उन्हें घर परिवार से बाहर जाने का अवसर ही नहीं मिलता। इस बार पत्नीजी ने कहा कि बच्चे घर पर हैं, अवकाश भी है, इस ऋण से भी मुक्त हुआ जाए। मुझे भी उस क्षेत्र में जाने का अवसर वर्षों से न मिला था। वहाँ एक वकील मित्र और दो पुराने मुवक्किलों से मिलने की इच्छा थी। मैं ने पत्नी जी का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। 
यात्रा के मार्ग के खेत, गेहूँ काटा जा चुका है
 ब हम गैंता से लौट रहे थे तो बीच में एक और पुराना कस्बा सुल्तानपुर पड़ता था। डूंगरली जाते समय पत्नी जी ने यहाँ की एक दुकान पर माताजी को चढ़ाने के कपड़े सजे देख लिए थे। वे कह रही थीं कि वहाँ से हमें माताजी के कपड़े लेने हैं। जैसे ही सुल्तानपुर आया मैं ने दुकान देखना आरंभ किया। जैसे ही वह दुकान दिखी मैं ने पास ही कार पार्क कर दी। पत्नी जी दुकान में प्रवेश कर गईं। मैं कॉफी के लिए दुकान तलाशने लगा। आखिर एक दिखी तो मैं ने वहाँ कॉफी बनाने को कहा और पास की दुकान पर पान बनवाने लगा। अचानक मुझे स्मरण हो आया कि इसी कस्बे में दाहजी (दादाजी) का विद्यार्थी जीवन गुजरा था। दाहजी के पिताजी खेड़ली छोड़ गैंता आ गए थे। नए कस्बे में आजीविका आसान न थी। किसी तरह गुजारा होता था। बच्चों की शिक्षा वहाँ हो सकना संभव न था। दाहजी के मामा संपन्न थे, इसी कस्बे सुल्तानपुर में रहते थे। उन्हों ने एक गुरुकुल स्थापित किया था। जहाँ संस्कृत, गणित, ज्योतिष, धर्मशास्त्र, कर्मकांड आदि की शिक्षा प्रदान की जाती थी। दाहजी को उन के पिता ने यहीं भेज दिया। दाहजी ने इसी कस्बे में मामा के गुरुकुल में रह कर शिक्षा ग्रहण की। उन की उस शिक्षा का लाभ मुझे भी मिला। सही मायने में मेरे पहले शिक्षक मेरे दाहजी ही थे। जिन्हों ने मुझे आरंभिक गणित और ज्योतिष सिखाई। मेरी माँ बताती है कि वह किसी समारोह में यहाँ कुछ दिन के लिए आई थीं। मैं ने यहीं पहली बार पैदल चलना आरंभ किया था। 

मुझे गुरुकुल के बारे में जानने की इच्छा हुई। मैं ने पान वाले से पूछा -यहाँ एक पुराना संस्कृत महाविद्यालय होता था, क्या अब भी है? उस ने बताया कि कोई एक फर्लांग आगे इसी सड़क पर बायीँ और एक मंदिर दिखाई देगा, वहीं वह विद्यालय था। लेकिन विद्यालय तो बरसों पहले बंद हो चुका है। दाहजी के मामा जी के संतान न थी। उन्हों ने अपने ही कुल के एक बालक को गोद लिया था। वह उन की संपत्ति का स्वामी हुआ। उस ने अपने जीवन काल में उस संस्कृत विद्यालय को चलाने का प्रयत्न भी किया, शायद इस भय से कि लोग उसे विरासत मिली संपत्ति पर प्रश्नचिन्ह खड़ा न करने लगें। लेकिन उस के जीवनकाल में ही वह विद्यालय दुर्व्यवस्था का शिकार हो कर बंद हो गया। अब केवल इमारत और मंदिर बचा है। मंदिर में पूजा होती है लेकिन इमारत का कोई अन्य उपयोग होने लगा है। दाहजी के मामा जी ने यह सोच कर विद्यालय आरंभ किया होगा कि यह उन के वंश को जीवित रखेगा, किन्तु ऐसा उन्होंने कभी सोचा भी न होगा कि एक पीढ़ी बाद ही वह बंद हो जाएगा। 

कॉफी बन कर आ गई। पहला घूँट स्वादिष्ट था। पर दूसरे ही घूँट में एक अजीब सी महक और स्वाद ने सारा आनंद किरकिरा कर दिया। यह लहसुन था। इस इलाके में लहसुन बहुत होता है। गाय और भैंसैं चराई के दौरान लहसुन के कचरे को खाती हैं। लहसुन की गंद और स्वाद इतना तेज होता है कि वह उन के दूध में आने लगता है। हम लोग लहसुन बिलकुल नहीं खाते, इस लिए इस तरह के स्वाद के दूध से बचते हैं। खैर, जैसे-तैसे मैं ने कॉफी को गले से नीचे उतारा। यदि पत्नी जी को इस दूध की चाय पिला दी जाती तो दो घूँट के बाद वे तो उलटी ही कर देतीं। मैं पान लेकर लौटा तब तक पत्नी जी खरीददारी कर चुकी थीं। हम चल पड़े। मार्ग में बाईं ओर संस्कृत विद्यालय की इमारत और मंदिर दिखाई पड़ा। पर वहाँ रुकने का मन न हुआ। अंधेरा होते होते हम कोटा पहुँच चुके थे। 
कार की पिछली सीट से बच्चों का लिया चित्र
गली सुबह जैसे ही मैं अदालत जाने को तैयार हुआ। पत्नी जी कहने लगी कि आज अष्टमी है, मंदिर जा कर माताजी को नए कपड़े पहना आओ। मैं तो पहना नहीं सकती, वहाँ स्त्रियों का चबूतरे पर चढ़ना वर्जित है।  अब जिस गली में मैं रहता हूँ उस के अंत में एक मंदिर है, जहाँ एक हनुमान जी और एक माताजी की मूर्ति है। पत्नी जी जानतीं हैं कि मेरा पूजा-पाठ, ईश्वर से कोई लेना देना नहीं। लेकिन वह तो विश्वासी है। उसे लगता है कि मेरे अविश्वासी होने के कारण, कहीं ऐसा न हो कोई विपत्ति परिवार को देखनी पड़े, तो वह ऐसे अवसर तलाशती रहती है। मैं ने पूछा ये वस्त्र तो आप इंद्रगढ़ के लिए लाई थीं? तो पत्नी ने बताया कि वे दो लाई हैं। ये कैसे होता कि इंद्रगढ़ की माताजी को तो नए वस्त्र पहना दिए जाएँ और यहाँ गली के माता जी पुराने ही वस्त्रों से नवरात्र  कर लें? मैं ने मना करना उचित न समझा। हम दोनों मंदिर गए। अखंड रामायण पाठ जारी था। वहाँ एक बुजुर्ग मौजूद थे जो नवरात्र के इस अखंड रामायण पाठ के संचालक थे। मैं ने उन से माता जी को नए वस्त्र पहनाने की अनुमति चाही, तो वे कहने लगे आप ने पेंट पहन रखी है, आप कैसे पहनाएंगे, मैं ही पहना देता हूँ। उन्हों ने खुद ने भी पेंट पहनी हुई थी। उन्हों ने उसे उतार कर एक पंजा लपेटा और नए वस्त्र ले कर माताजी तक गए। मैं भी पीछे-पीछे वहाँ पहुँच गया। मुझे देख कहने लगे -अब आप आ गए हैं तो आप ही पहना दीजिए। मैं ने देखा कि माता जी को जो कपड़े पहनाए हुए थे उन पर धूल जमी थी। शायद पिछले नवरात्र के बाद किसी ने उन्हें बदला ही न था। मैं ने माता जी की मूर्ति के पुराने वस्त्र हटा कर उन्हें नए पहना दिए। नए वस्त्र पहनाते ही माता जी की मूर्ति दमकने लगी। बुजुर्ग सज्जन ने बताया कि उन्हों ने मंदिर के भोपा को माताजी के नए वस्त्रों के लिए पहले नवरात्र के दिन ही रुपए दे दिए थे, लेकिन वह आज तक नहीं लाया। अब आप ले आए तो अब उसे मना कर दूंगा। पत्नी ने एक नारियल के साथ ग्यारह रुपए भी वहाँ भेंट किए। हम वापस घर लौट चले। पत्नी के चेहरे पर संतोष के चिन्ह देख मुझे भी अच्छा लगा। 

रात को मैं जब देर तक अपने ऑफिस में बैठा रहा तो पत्नी ने आ कर हिदायत दी कि अब सो जाओ सुबह जल्दी निकलना है, देर हो गई तो इंद्रगढ़ में माता जी की चढ़ाई में परेशानी होगी। मैं ने हिदायत का पालन किया और थोड़ी देर में ही ऑफिस का काम निपटा कर सोने चला गया।

(अगली पोस्ट इंद्रगढ़ की यात्रा पर) 

Tuesday, April 19, 2011

अपने पूर्वजों के गाँव की बगीची और उस के मंदिर

ल मैं ने वादा किया था कि अगली चलेंगे बगीची में। मैं भी इस से पहले कभी इस बगीची में नहीं गया था। लेकिन वह बगीची मेरे दाहजी (दादाजी), चाचाजी और पिताजी की स्मृतियों में रची बसी थी। चाचा जी और पिताजी को गर्मी के मौसम में जब रामलीला होती तो पूरा पखवाड़ा बगीची में ही बिताना होता था। मैं चाहता था कि पिताजी जिन संत के सब से प्रिय शिष्य थे उन का यह स्थान कैसा रहा होगा और कैसा है" काका लक्ष्मीचन्द कार में आगे मेरे पास की सीट पर बैठ गए और रास्ता बताते चले। बगीची नगर के मुख्य द्वार से कोई दो सौ मीटर की दूरी पर ही आज की मुख्य सड़क से कुछ हट कर स्थित थी। बगीची के चारों ओर पत्थर की चारदिवारी थी और दक्षिण दिशा में लोहे की छड़ों से बना गेट लगा हुआ था, इस गेट से एक ट्रक तक बगीची में प्रवेश कर सकता था।

बगीची में शिव मंदिर (दक्षिण दिशा से)
गेट से प्रवेश करते ही सामने मैदान था जिस में बड़े बड़े पुराने वृक्ष खड़े थे जो बगीची की प्राचीनता के साक्षी थे। पश्चिम दिशा की ओर एक विशाल पक्के चबूतरे पर यज्ञशाला थी जिसकी छत टीन से इस तरह बनाई गई थी कि हवन का धुआँ आसानी से बाहर निकल सके। बगीची के ईशान कोण (उत्तर-पूर्व के कोने में एक मंदिर समूह था जिस में सब से पहले एक बड़ा सुंदर सा मंदिर दिखाई दे रहा था। मंदिर का रख रखाव उत्तम था। शिखर और गर्भगृह को बाहर से गेरुए रंग से रंगा हुआ था। मंदिर का आधार नीले रंग से और मण्डप पर बने शिखर चूने के सफेद रंग से रंगे हुए थे। शेष मंदिर को तेल रंगों से रंगा हुआ था। मंदिर का मुख पूर्व की ओर था। मैं ने चप्पलें उतारी और मंदिर में गया। वहाँ एक बड़े आकार का काले पत्थर का सुंदर शिवलिंग स्थापित था। इस के चारों ओर मुख बने हुए थे जो शंकर की चार भिन्न-भिन्न मुद्राओं को अभिव्यक्त करते थे। यह शिवलिंग कम से कम दो-तीन सौ वर्ष पुराना प्रतीत होता था। क्यों कि इसी तरह के कुछ शिवलिंग कोटा नगर के कुछ प्राचीन शिव मंदिरों में स्थापित हैं और वे भी इतने ही प्राचीन हैं। गर्भगृह के सामने मण्डप के नीचे सफेद संगमरमर से निर्मित नन्दी विराजमान थे, जो एकदम नवीन लग रहे थे। पूछने पर पता लगा कि इन्हें अभी इसी वर्ष स्थापित किया गया है।
मंदिर में स्थापित शिवलिंग
शिवमंदिर के उत्तर में कुछ पूर्व की ओर एक इमारत बनी हुई थी। मुझे बताया गया कि इस इमारत के दक्षिण-पूर्वी कोने में  हनुमान मंदिर है। यह छोटा था लेकिन अंदर से बहुत साफ और सुंदर था। दीवारों पर ग्रेनाइट के रंगीन पत्थर लगाए हुए थे और फर्श संगमरमर का था। हनुमान प्रतिमा को देख कर लगता था कि यहाँ हनुमान जी का सिर्फ सिर ही स्थापित था या पूरी प्रतिमा थी तो वह गर्दन तक भूमि में चली गई थी। हनुमान जी को सिंदूर और चांदी के वर्क से खूबसूरती से श्रृंगारित किया हुआ था। वहाँ सफाई भी बहुत अच्छी थी। इन दोनों मंदिरों को देख कर लगा कि यहाँ के भक्त सुरुचिपूर्ण, सौंदर्यप्रेमी और सफाई पसंद हैं। मुझे नगर में भी गंदगी दिखाई न दी थी। हो सकता है यह सद्गुण महाराज चेतनदास जी से यहाँ के लोगों को मिला हो। पिताजी को भी गंदगी बिलकुल पसंद न थी। जरा सा तिनका या धूल उन्हें दिखाई देती तो उसे तुंरत हटाते थे।
हनुमान प्रतिमा
नुमान मंदिर से पूर्व में दो छतरियाँ बनी हुई थीं। जिन्हें चारों ओर से लोहे की छड़ों की जाली से सुरक्षित किया गया था। इन छतरियों में महाराज चेतन दास जी के चरणों के चिन्ह संगमरमर पर बनाए हुए थे और उन की स्मृति के रूप में यहाँ स्थापित थे।

महाराज चेतनदास जी के चरण चिन्ह


गैंता में तो मुझे महाराज चेतनदास जी के चमत्कारों के विषय में कोई चर्चा सुनने को न मिली, वहाँ उन्हें लोग अपने पथप्रदर्शक और मार्गदर्शक के रूप में ही जानते हैं। लेकिन आस पास के कस्बों और गाँवों में उन के चमत्कारी होने के बारे में अनेक कथाएँ प्रचलित हो गई हैं। लेकिन मुझे लगता है वे सभी काल्पनिक हैं। दाहजी और पिताजी उन के निकट कई वर्षों तक रहे। लेकिन कभी उन के मुहँ से उन के इस रूप की चर्चा न सुनी। वे जो कहते थे उस से जान पड़ता है कि महाराज बहुत गुणी थे। वे आयुर्वेद के विद्वान थे। रोगी उन के पास आते थे और स्वस्थ हो कर जाते थे। बच्चों को वे संगीत, गणित और भाषा की शिक्षा प्रदान करते थे। गरीब और कमजोर लोगों को अपने धनी शिष्यों से आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराते थे। नगर की सांस्कृतिक गतिविधियों के वे मुखिया थे। गर्मी के मौसम में जो रामलीला आयोजित करते थे उस का निर्देशन वे स्वयं करते थे। वे लोगों को और लोग उन को असीम प्यार करते थे। यही वजह थी कि लोगों ने उन्हें चमत्कारी पुरुष मान लिया था। गाँव के लोग उन की स्मृतियों और धरोहर को आज भी संजोए हुए थे। 
शिव मंदिर सामने (पूर्व दिशा से)
नुमान मंदिर में एक ओर एक व्यक्ति सस्वर रामायण पाठ कर रहा था। मंदिर के पश्चिम दिशा की ओर एक बड़ा और लंबा बरामदा बना हुआ था। इस में कुछ भक्तगण भोजन बनाने में व्यस्त थे। मैं ने काका लक्ष्मीचंद से पूछा तो उन्हों ने बताया कि गाँव के कुछ लोग नवरात्र में नौ दिन यहीँ बगीची में रहते हैं। वे नवरात्र पर नौ दिन तक रामायण का अखंड पाठ करते हैं। अपना भोजन भी सब मिल कर यहीँ बनाते हैं। हमें काफी समय हो गया था, इतना कि यदि तुरंत न चलते तो कोटा पहुँचते पहुँचते रात्रि हो जाती। मेरा मन कर रहा था कि यहीँ एक-दो दिन इन लोगों के बीच रुकूँ। लेकिन अगले दिन मुझे तो अदालत करनी थी। बच्चों को भी अवकाश न था। हम बगीची के बाहर आ गए। काका लक्ष्मीचंद ने वहीं से हम से विदा ली। हम ने अपनी कार हाँकी और कोटा के लिए रवाना हो गए। मैं रास्ते भर सोचता रहा कि मुझे यहाँ कुछ दिन आ कर गाँव में रहना चाहिए। अपना घर तो गिर कर टीला हो चुका है, पर रहने को बगीची तो है ही और उस से अच्छा हो भी क्या सकता है।
सूचना - चित्रों को क्लिक कर के उन्हें बड़े आकार में देखा जा सकता है।

Monday, April 18, 2011

गैता का नगर राज्य और महाराज की बगीची

गैंता राज का पाईपेपर और
उस पर राजा का चित्र
गैंता ठिकाना 25° 34' 60 उत्तरी अक्षांश तथा 76° 17' 60 पूर्व देशान्तर पर चम्बल नदी के पूर्व में कोई पचास वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में स्थापित था। इसे एक नगर राज्य जैसा कहा जा सकता है। क्यों कि गैंता नगर के अतिरिक्त शायद ही कोई बस्ती या गाँव इस  की सीमा में आता हो। इस की सीमा में बस नगर था, कृषिभूमि और मामूली जंगल था। ठिकाने के लगभग सभी निवासी इसी नगर में निवास करते थे। जनसंख्या भी दो हजार के आसपास रही होगी। नदी किनारे होने से यह बंदरगाह का काम करता था। ठिकाने से लगे हुए अन्य ठिकानों के क्षेत्रों में बाहर से आने वाला सारा माल नदी से ही आता था।  इन ठिकानों से बाहर जाने वाला माल भी नदी के रास्ते ही बाहर जाता था। गैंता ठिकाने से हो कर गुजरने वाले माल में से केवल कुछ मालों पर नाम मात्र का कर था। जिस के कारण नगर व्यापार का केंद्र अवश्य बन गया था। यही व्यापार इस की संपन्नता का आधार भी था। व्यापार का केंद्र होने के कारण नित्य ही व्यापारिक सौदे होते थे। इन सौदों में विवाद उत्पन्न होने पर उन्हें सुलझाने और कानून व्यवस्था बनाए रखने के  लिए एक सक्षक्त पुलिस और न्यायप्रणाली होना आवश्यक था। इसी की स्थापना के लिए ठिकाने की अपनी  पुलिस और न्याय व्यवस्था थी। राजा सत्ता का केंद्र था।  

गैंता राज का आठ आने का कोर्ट फी स्टाम्प
ह सारी व्यवस्था कैसी रही होगी? इस का निश्चय करने के लिए गढ़ को देखना और वहाँ के निवासियों से बात करने की इच्छा होना स्वाभाविक था। इस के लिए कम से कम एक-दो दिन यहाँ रुकना आवश्यक था। लेकिन हमें तो तुरंत ही लौटना था। इस काम को अगली यात्रा के लिए स्थगित किया। इस से अधिक मेरी रुचि इस बात में थी कि मैं बगीची को अवश्य देखूँ। बगीची नगर के परकोटे के बाहर नगर के पूर्वी द्वार से लगभग तीन सौ मीटर दूर स्थित है। इस बगीची में एक संत निवास करते थे। सब लोग उन्हें महाराज चेतनदास जी के नाम से जानते थे और संक्षेप में उन्हें महाराज कहते थे। महाराज को गैंता राज्य के राजा से भी अधिक सम्मान प्राप्त था। इस का कारण उन का ज्ञान और जनसेवा थी। वे संस्कृत, संगीत, गणित और वैद्यक के विद्वान थे। उन के पास से कोई खाली हाथ न जाता था। बीमार की बीमारी की चिकित्सा होती थी, कुछ दवा से कुछ उन के विश्वास से। निराश को आशा प्राप्त होती थी। कोई गरीब व्यक्ति यदि यह कह देता कि बेटी का ब्याह सर पर है और घर में कानी कौड़ी भी नहीं, अब तो आप का सहारा है। तो महाराज कह देते कि जा चिंता न कर सब हो जाएगा। महाराज इस बात को राजा और नगर के सेठों तक पहुँचाते तो उस की बेटी का ब्याह हो जाता। होनहार बालकों को वे अपनी बगीची में ही शिक्षा प्रदान करते। अपने इन गुणों के कारण महाराज चेतनदास जी को उन के जीवनकाल में ही चमत्कारी मान लिया गया था। ग्रीष्म काल में जब फसलें आ जाने के उपरांत घर अन्न से भरे होते तो महाराज एक पखवाड़े तक रामलीला का आयोजन करते। बगीची में रौनक हो जाती। रामलीला करने वाले बालकों को पूरे पन्द्रह दिन बगीची में ही रहना होता। वहीं दिन में रामलीला का अभ्यास होता वहीं भोजनादि। मेरे पूर्वजों का इस बगीची से गहरा संबंध रहा था।

मेरे दाहजी (दादाजी) पं. रामकल्याण शर्मा स्वयं संस्कृत, गणित तथा ज्योतिष के विद्वान, कर्मकांडी गृहस्थ   ब्राह्मण थे और महाराज  ब्रह्मचारी संन्यासी। लेकिन दोनों एक दूसरे का सम्मान करते। पिताजी का बचपन तो बगीची में ही गुजरा। पिताजी सात वर्ष के हुए तो दाहजी ने उन का प्रवेश इटावा के विद्यालय में करवा दिया। वहाँ दाहजी के दूर के रिश्ते के एक भाई अध्यापक और छात्रावास के अधीक्षक थे। अब पिताजी को पढ़ने के लिए इटावा में ही रहना था। पिताजी को इटावा छोड़ कर वापस गैंता पहुँचे तो महाराज ने दाहजी की खूब खबर ली। इतने छोटे बालक को दूर के विद्यालय में रख दिया, अकेला कैसे रह पाएगा? क्या मैं यहाँ उसे न पढ़ाता था? पर दाहजी ने उन्हें समझाया कि नए जमाने में नई शिक्षा आवश्यक है, गुरुकुल की पढ़ाई से काम न चलेगा। फिर भी पिताजी जब भी गैंता लौटते उन का अधिकांश समय बगीची में गुजरता। वहाँ उन्हें जीवन की शिक्षा मिलती। वहीं पिताजी को चिकित्सा, संगीत और संस्कृति की शिक्षा मिली। गर्मियों की रामलीला में पूरा परिवार ही बगीची मे इकट्ठा हो जाता। रामलीला में दाहजी विश्वामित्र, उन के छोटे भाई जनक, पिताजी राम और चाचा जी भरत के चरित्रों का अभिनय करते। पिताजी बताते थे कि महाराज चिलम पिया करते थे। लेकिन  जैसे ही हम लोग अपना मेकअप कर के राम, लक्ष्मण आदि के रूप में आ जाते तो हमें उच्चासन पर बैठाते, कभी चिलम न पीते, और अपने आराध्य जितना मान देते। महाराज रामलीला में स्वयं परशुराम का अभिनय करते और सदैव दर्शकों के बीच हाथ में कपड़े का बुना कोड़ा लिए उसे फटकारते हुए प्रवेश करते। जैसे ही उन का प्रवेश होने को होता दर्शक अपने बीच दस फुट चौड़ी गैलरी बना देते थे। दर्शकों को भय लगता था कि परशुराम का कोड़ा किसी को लग न जाए। 
गूगल मैप में दिखाई देती गैंता में महाराज की बगीची
बाराँ में एक बार चार वर्ष की छोटी बहिन मेले से एक बाँसुरी खरीद लाई और दिन भर उस में फूँक मार कर पेंपें किया करती। मैं ने भी उस पर कोशिश की पर मैं भी बहिन से अधिक अच्छी कोशिश न कर सका। दो-दिन बाद पिताजी घर लौटे तो अचानक बांसुरी ले कर झूले पर बैठ गए और बजाने लगे। मैं उन का बाँसुरी वादन देख कर चकित था कि वे इतनी सुंदर बाँसुरी भी बजा सकते हैं। पूछने पर उन्हों ने बताया की कभी महाराज के सानिध्य में सीखी थी। मैं ने उस के पहले कभी पिताजी को बाँसुरी बजाते न सुना था और बाद में भी मुझे कभी इस का अवसर न मिला। पिता जी और दादा जी अक्सर ही गैंता में बिताए अपने समय के बारे में बातें किया करते थे। उन की बातों में हर बार महाराज चेतनदास जी उपस्थित रहते। इसी से मेरे मन में महाराज चेतनदास जी के प्रति  बहुत सम्मान औऱ बगीची के प्रति आकर्षण बन गया था। बगीची मैं ने अब तक कल्पना में ही देखी थी।  लेकिन मेरी इस छोटी सी यात्रा में मैं बगीची अवश्य ही जाना चाहता था। ... 

.....अब की बार चलेंगे महाराज की बगीची में

Sunday, April 17, 2011

पूर्वजों के गाँव में ...

मेरा जन्म बाराँ (अब राजस्थान का स्वतंत्र जिला मुख्यालय) में हुआ, लेकिन यहाँ जन्म लेने वाला मैं परिवार का पहला सद्स्य था। शेष सभी की यादें गैंता से जुड़ी हुई थीं। पिता जी, दाहजी, छोटे दाहजी, बुआ और दोनों चाचा वहीं जन्मे थे। दाहजी के पिता जी, मेरे परदादा अवश्य गैंता में खेड़ली से आए थे। दो-ढाई वर्ष की उम्र में मुझे शायद एक बार गैंता ले जाया गया था। तब की केवल इतनी स्मृति थी कि वहाँ मकान में कुछ कमरे बनाने के लिए नींवे खोदी जा रही थीं, और सब बड़ों को कान में जनेऊ चढ़ा कर मूत्रत्याग करते देख मुझे ऐसा ही करने की धुन सवार हुई थी और मैं ने घर में कहीं से जनेऊ तलाश कर पहन ली थी और उसे कान पर चढ़ा कर मूत्रत्याग कर के देखा था कि इस से क्या फर्क पड़ता है। उस के बाद कोई पैंतीस वर्ष पहले किसी काम से वहाँ जाना पड़ा था और मैं इटावा से 9 किलोमीटर पैदल गया था। चलते-चलते अंधेरा हो चुका था और कुछ सूझ नहीं रहा था। तब पीछे से एक ट्रेक्टर ने मुझे लिफ्ट दी थी जो इतनी कारगर सिद्ध हुई थी कि केवल सौ मीटर में ही गैंता का प्रवेशद्वार आ गया था। तभी की कुछ स्मृतियाँ मन में थीं। इस बार वैसे ही इटावा से डूंगरली जाते समय बच्चों से पूछा था कि गैंता देखोगे? बच्चों के मौन को स्वीकृति समझ अपने मन की पूरी करने वापसी में इटावा से कार का रुख गैंता की ओर मोड़ लिया था। कार चली जा रही थी। नौ किलोमीटर में बीच में कोई गाँव नहीं पड़ा था, सब सड़क से दूर थे। मैं सोचता जा रहा था कि वहाँ जाते ही कहाँ जाया जाए? 

गैंता ग्राम पश्चिम में बहती चंबल नदी 
मुझे अचानक गणपत काका के बड़े भाई काका लक्ष्मीचंद का स्मरण हुआ, वही तो गैंता में हमारा निकटतम पड़ौसी था। मैं  ने गैंता के प्रवेशद्वार के बाहर पूछा कि क्या कार को काका लक्ष्मीचंद के घर तक ले जाया जा सकता है? जवाब हाँ में मिलने पर मैं आगे बढ़ गया। बाजार में जहाँ से घर की ओर रास्ता जाता है उस से कुछ पहले एक दुकान पर रास्ता पूछा तो वहाँ से एक बुजुर्ग काका लक्ष्मीचंद के घर के लिए कार में बैठ गए। ठीक घर की बगल में कार रुकी तो काका का घर पहचान में आ गया। लेकिन वहाँ मैदान मिट्टी का था जहाँ हमारा घर हुआ करता था। काका घर पर नहीं सोसायटी के गोदाम पर थे, काका की लड़की बाहर आई, पीछे पीछे घूंघट निकाले काकी थी। दोनों ने हमें न पहचाना। मैं ने काका से फोन पर बात करने के लिए मोबाइल का नंबर पूछा तो काका की बेटी ने कहा उन को तो मैं बुला दूंगी, पर पहले यह तो पता लगे कि आप कौन हैं। मैं तब तक अपने पूर्वजों के घर की मिट्टी ही देख रहा था। मैं ने कहा यहाँ किस का मकान था? इतना कहते ही साथ आए बुजुर्ग ने मुझे पहचान लिया -तो आप वकील साहब हैं, नन्द किशोर जी के लड़के? ... जी, हाँ! मैं ने कहा। 



काकी हमें अंदर ले गई। कमरे में बिठाया। बिजली गई हुई थी, पंखा नहीं चल रहा था। पर कमरा ठंड़ा था। फिर बातें होने लगी। घर को किसी ने नहीं संभाला और गिर गया। लकड़ी का सामान आप का हाली अपने घर ले गया। जमीन बँटाई से होती है। बँटाई पर लेने वाला खुद ही बाराँ चला जाता है और छोटे चाचा से बँटाई तय कर पैसा उन्हें ही दे आता है। छोटे चाचा या उन के लड़कों को गाँव आए कई वर्ष हो चुके हैं। बाजार में दो दुकानें हैं, वे भी लावारिस पड़ी हैं। अभी तो उन्हें खरीदने वाले हैं। गिर जाएंगी तो जितने पैसे अभी आ रहे हैं उतने फिर नहीं आएंगे। मैं उदास सा सब सुनता रहा। पिताजी की बाराँ नौकरी लग जाने के बाद दाहजी सारे परिवार सहित बाराँ चले आए थे। गाँव की सारी सम्पत्ति छोटे दाहजी संभालते रहे। दाहजी, पिताजी, चाचाजी वगैरह ने उस संपत्ति के बारे में सोचना बिलकुल छोड़ दिया। आज उस संपत्ति की दुर्दशा सुन कर मुझे अजीब सा लग रहा था। इतने में काका लक्ष्मीचंद आ गए, साथ आए बुजुर्ग उन के ताऊ थे वे कोटा ही रहते थे और किसी काम से गाँव आए थे। वे वापस दुकान की ओर चले गए। हम ने वहाँ चाय पी। चाचा और चाची अपने अपनी आप बीती सुनाने लगे।

फिर मुझे गाँव देखने की इच्छा हुई तो काका हमें बाजार तक लाए। बाजार लगा था। सभी तरह की दुकानें थीं और सड़क पर सब्जीमंडी लगी हुई थी। ताजा सब्जियाँ देख पत्नी का मन मचल गया, उस ने ढेर सी सब्जी खरीद ली। हर कोई हमें देख जानना चाहता था कि हम कौन हैं, गाँव में चार नए चेहरे एक साथ दिखने पर यह तो होना ही था। एक को काका लक्ष्मीचंद ने दाहजी का हवाला दे कर बताया तो वे समझ गए। कुछ ही देर में कानों कान सब को पता लग गया कि हम कौन हैं। बाजार की सभी दुकानें सौ से दो सौ वर्ष पुरानी थीं। उन्हें देख लगता था कि किसी जमाने में इस बाजार में रौनक रहा करती होगी। बाजार में तीन-चार मंदिर भी थे, आगे चौपड़ थी। जहाँ से चारों दिशाओं में रास्ते निकलते थे। एक रास्ता गढ़ की ओर जाता था, जहाँ गैंता के पूर्व महाराजा के वंशज रहते थे। यह बस्ती जो अब गाँव कहलाती है, कभी न केवल नगर था, अपितु कोटा रियासत का एक ठिकाना (जागीर) थी। इस जागीर का मुखिया वंश परम्परा से होता था जो महाराजा कहा जाता था। जागीर को रियासत को निश्चित मात्रा में वार्षिक शुल्क (नजराना) देना होता था। जागीर अपने यहाँ शासन चलाने में स्वतंत्र थी, जिस की अपनी पुलिस और कचहरी थी। जागीर का महाराजा कचहरी के लिए कोर्ट फीस स्टाम्प और पाई पेपर जारी करता था। मेरी घूम कर गाँव देखने की इच्छा थी, लेकिन उस के लिए कम से कम एक रात तो गाँव में रुकना ही पड़ता। अभी इस का अवसर नहीं था। लेकिन मैं बगीची अवश्य जाना चाहता था। हम वापस काका के घर लौट आए, एक बार और शीतल जल पिया। काका को कार में बिठाया और बगीची तक ले चलने को कहा। .......

Friday, April 15, 2011

बाकी पूजा तू झेल

हुत दिनों से ये कहा जा रहा था कि डूंगरली और इंद्रगढ़ जाना है। पर मौका ही नहीं मिल रहा था। इस बार नवरात्र के अंत में यह मौका आ गया। बेटे को बंगलूरू से भोपाल तक किसी आवश्यक काम से आना पड़ा और वह वहाँ से कोटा चला आया। उस के आने का समाचार मिलते ही बेटी भी अवकाश ले कर शनिवार की रात्रि को घर आ पहुँची।  रविवार की सुबह हम अपनी आठवें वर्ष में चल रही मारूती-800 से डूंगरली के लिए रवाना हुए। डूंगरली कोटा जिले की पीपल्दा तहसील का एक छोटा सा गाँव है, और पंचायत मुख्यालय भी। इस गाँव का कोई बड़ा महत्व नहीं। इस के पास ही कोई दो किलोमीटर दूर एक अन्य छोटा गाँव है 'खेड़ली बैरीसाल' इस गाँव  में मुझ से पाँचवीं पीढ़ी और उस के पहले कोई दो-तीन पीढ़ी तक के पूर्वज रहा करते थे।  डूंगरली में गाँव के बाहर एक ऊंचे गोल चबूतरे पर एक चौकोर चबूतरा इस पर एक आदमकद हनुमान मूर्ति स्थापित है। इस के बारे में यह किवदन्ती प्रचलित है कि हनुमान मूर्ति पहले लकड़ी की थी, गाँव वाले उन्हें बहुत मानते थे और हनुमान जी गाँव के रक्षा करते थे। कभी चोरी चकारी तक न होती थी। फिर एक रात कोई चोर गाँव में घुस आया तो हनुमान जी ने उसे ठोक-पीट कर अपने दाहिने पैर के नीचे दबा लिया। गाँव वालों की नींद खुली तो चोर मूर्ति के नीचे दबा मिला। पर इस ठोक-पीट में लकड़ी की मूर्ति क्षतिग्रस्त हो गई। गाँव वालों ने वहाँ प्रस्तर मूर्ति बनवा कर लगा दी। इस किवदंती के कारण इस मूर्ति की मान्यता हो गई। हमारे पूर्वजों ने भी इसी मूर्ति में अपने इष्ट को देखा और हर काम में उन का दखल स्थापित हो गया। शादी हो, संतान जन्म हो तो हनुमान जी को ढो़कना जरूरी। पहली पुरुष संतानों के केशों का प्रथम मुंडन यहीं होने लगा। मेरा भी प्रथम मुंडन पाँच वर्ष की उम्र में यहीं हुआ था। 

हाड़ौती में हाड़ा राजपूतों का राज्य स्थापित होने के पहले लंबे समय तक ब्राह्मण राज्य करते रहे। बाद में यह ब्राह्मण राज्य नष्ट होने पर राजवंश के लोगों को चित्तौड़ राज्य में शरण लेनी पड़ी। कुछ सौ वर्षों तक वहाँ रहने के बाद उन के वंशज पुनः हाड़ौती में लौट आए। यहाँ के निवासियों से उन्हें सम्मान मिला, राजा तो वे हो नहीं सकते थे। लेकिन वे वापस लौट कर जहाँ भी बसे वहाँ तुंरत ही ग्राम-गुरु हो गए और हाड़ा सामंतों से भी उन्हें सम्मान मिला। पूर्वजों के राजा होने का स्वाभिमान शायद उन में अब भी शेष था। इस लिए यदि कभी किसी सामंत से टकराहट हो जाती तो वे गाँव छोड़ दिया करते थे। यही कारण हमारे पूर्वजों का खेड़ली ग्राम को छोड़ने का रहा। उन्हों ने सामंत से अपने रिश्ते न तोड़े लेकिन गाँव छोड़ दिया। मेरे दादा जी कहा करते थे कि उन के पिताजी खेड़ली छोड़ कर गैंता आ गए थे और कहते थे कि खेड़ली जाना तो सही पर कभी रात वहाँ न रुकना। गैंता कोटा राज्य का भाग होते हुए भी काफी स्वतंत्र था। वहाँ किसी तरह के व्यापार पर कोई टैक्स न था। चंबल के किनारे होने के कारण नदी में चलने वाली नावों से माल गैंता आता और इलाके के लोग वहीं से माल खरीदते। इस तरह गैंता व्यापारिक केंद्र होने से बहुत संपन्न था। आज उसे भले ही गाँव की संज्ञा दी जाती हो, पर सत्तर-अस्सी वर्ष पहले तक वह एक नगर की भाँति ही रहा होगा। 

पारिवारिक कामों से मैं बचपन से ही डूंगरली जाता रहा। वहाँ जो मूर्ति अब स्थापित है वह मुझे आकर्षित करती रही। इस मूर्ति में हनुमान जी के बाएँ पैर के नीचे एक शत्रु दबा हुआ है, दायाँ पैर नीचे भूमि पर है, दायाँ हाथ मुड़ कर कमर पर टिका हुआ है और बायाँ हाथ सिर के ऊपर है। यह एक नृत्य मुद्रा है। जैसे हनुमान जी शत्रु को परास्त कर उस की छाती पर पैर रख कर नृ्त्य कर रहे हों। किवदन्ती को बचपन में मैं सही मानता था। लेकिन धीरे-धीरे उस पर से विश्वास समाप्त हो गया और मैं उस मूर्तिकार का प्रशंसक होता चला गया जिस ने उस मूर्ति को गढ़ा था। उस ने शत्रु को परास्त करने के बाद के उल्लास को उस मूर्ति में व्यक्त करने का प्रयत्न किया था। बाद में मुझे यह भी पता लगा कि इस रूप की यह मूर्ति अकेली नहीं है। भीलवाड़ा जिले में एक प्राचीन स्थान मैनाल में और जयपुर के जौहरी बाजार के प्रसिद्ध हनुमान जी की मूर्तियाँ भी इसी मूर्ति की प्रतिकृति हैं, जैसे एक ही मूर्तिकार ने इन तीनों मूर्तियों को गढ़ा हो।  

कोटा से कोई बीस किलोमीटर चले होंगे कि आगे एक कार और दिखाई दी। उसे देख पत्नी जी कहने लगी ये भी कहीं पूजा करने जा रहे हैं, कार में पीछे माला दिखाई दे रही है। मैं ने कार की ओर ध्यान दिया तो पता लगा वह चाचा जी के लड़के राकेश की कार है। कोई पाँच किलोमीटर तक मैं उस कार के पीछे-पीछे चलाता रहा। पर वह अत्यन्त धीमी चाल से चल रही थी। आखिर मैं ने अपनी कार आगे निकाल ली। रास्ते में इटावा में रुक कर हमने पान लिए। यह पान की दुकान मेरे एक मित्र की होती थी, लेकिन वह या उस के परिवार का कोई दुकान पर दिखाई न दिया। पूछने पर पता लगा कि मित्र इटावा छोड़ कर श्योपुर रहने लगा है, दुकान किराए पर दे दी है। इटावा से ही एक सड़क गैंता तक जाती है। गैंता में हमारे पूर्वजों चार पीढ़ियों ने निवास किया है। अभी भी वहाँ परिवार की कुछ कृषि भूमि, मकान और दो दुकानें मौजूद हैं। मैं ने पत्नी और बच्चों को उकसाया। गैंता देखना हो तो वापसी में चल चलेंगे। उन में से किसी ने कभी इस गाँव में कदम भी न रखा था। वे कहने लगे चले चलेंगे। 

म डूंगरली मंदिर पर पहुँचे तो जैसी मुझे आशा थी हनुमान मूर्ति पर श्रृंगार किया हुआ था। लेकिन इस से मूर्ति के दोनों हाथ दब गए थे और दिखाई ही नहीं पड़ रहे थे। इस श्रृंगार ने मूर्ति के उस स्वाभाविक सौन्दर्य और भाव को नष्ट कर दिया था जिस के लिए मूर्तिकार ने उसे गढ़ा था। मेरा मन श्रृंगारिकों के प्रति निराशा से भर गया। पहले जब हम आते थे तो कई दिनों से मूर्ति का श्रंगार नहीं हुआ होता था। हम मूर्ति को स्नान करवा कर उस पर चमेली के तेल और सिंदूर चढ़ाते थे। फिर सफेद और रंगीन पन्नियों से इस तरह सजाते थे कि मूर्तिकार का भाव सौन्दर्य द्विगुणित हो जाए। लेकिन जिस तरह का श्रंगार किया हुआ था उस पर ऐसी गुंजाइश न थी। हम ने दर्शन किए। पत्नी जी ने पूजा की सामग्री दी जिस से पूजा कर दी गई। तेल की पूरी शीशी मूर्ति में हनुमान के पैरों तले दबे शत्रु पर उड़ेल दी गई, फिर वहीं कुछ सिंदूर पोत कर चांदी वर्क चढ़ा दिया गया। शेष पूजा भी वहीं शत्रु पर समर्पित हो गई। कुछ ही देर में चाचा जी, राकेश, राकेश की पत्नी और पुत्र व राकेश के छोटे भाई का पुत्र भी वहाँ पहुँच गए। उन की पूजा आरंभ हो गई। यह पूजा भी पूरी तरह शत्रु को ही झेलनी पड़ी।   मैं हनुमान की शत्रु पर हुई कृपा पर मुस्कुरा उठा। लगता था हनुमान जी भी अपने सैंकड़ों भक्तों द्वारा बार-बार की जा रही पूजा से तंग आ गए हों और पैर के नीचे दबे शत्रु से कह रहे हों भाई तेरी वजह से मुझे इतना महत्व मिला है, मुझे तो इसी श्रंगार में रहने दो, मैं सदियों से नृत्य मुद्रा में खड़े-खड़े थक भी गया हूँ, अब अधिक पूजा मुझ से झेली नहीं जाती, बाकी की पूजा तू ही झेल! चाचा जी भोजन तैयार कर लाए थे। हम से बहुत आग्रह किया कि हम भी भोजन करें। लेकिन हम चल दिए, हमें गैंता भी जाना था। 

Monday, April 11, 2011

इस के हिस्से में आख़िर ये रोशनी क्यूँ है

हमद सिराज फ़ारूक़ी एम.ए. (उर्दू) हैं, लेकिन यहाँ कोटा में अपना निजि व्यवसाय करते हैं। जिन्दगी की जद्दोजहद के दौरान अपने अनुभवों और विचारों को ग़ज़लों के माध्यम से उकेरते भी हैं। 'विकल्प' जनसांस्कृतिक  मंच कोटा द्वारा प्रकाशित बीस रचनाओं की एक छोटी सी पुस्तिका उन का पहला और एक मात्र प्रकाशन है। अपने और अपने जैसे लोगों के सच को वे किस खूबी से कहते हैं, यह इस ग़ज़ल में देखा जा सकता है .......

'ग़ज़ल'

इस के हिस्से में आख़िर ये रोशनी क्यूँ है

  • हमद सिराज फ़ारूक़ी

बढ़ी है मुल्क में दौलत तो मुफ़लिसी क्यूँ है
हमारे घर में हर इक चीज़ की कमी क्यूँ है

मिला कहीं जो समंदर तो उस से पूछूंगा
मेरे नसीब में आख़िर ये तिश्नगी क्यूँ है

इसीलिए तो है ख़ाइफ ये चांद जुगनू से 
कि इस के हिस्से में आख़िर ये रोशनी क्यूँ है

ये एक रात में क्या हो गया है बस्ती को
कोई बताए यहाँ इतनी ख़ामुशी क्यूँ है

किसी को इतनी भी फ़ुरसत नहीं कि देख तो ले
ये लाश किस की है कल से यहीँ पड़ी क्यूँ है

जला के खुद को जो देता है रोशनी सब को
उसी चराग़ की क़िस्मत तीरगी क्यूँ है

हरेक राह यही पूछती है हम से 'सिराज' 
सफ़र की धूल मुक़द्दर में आज भी क्यूँ है



............................................................................................................

Sunday, April 10, 2011

दुर्ग इनका तोड़ना पड़ेगा दोस्तों

अखिलेश 'अंजुम'
    खिलेश जी वरिष्ठ कवि हैं। मैं उन्हें 1980 से जानता हूँ। काव्य गोष्ठियों और मुशायरों में जब वे अपने मधुर स्वर से तरन्नुम में अपनी ग़ज़लें प्रस्तुत करते हैं तो हर शैर पर वाह! निकले बिना नहीं रहती। मैं उन का कोई शैर कोई कविता ऐसी नहीं जानता जिस पर मेरे दिल से वाह! न निकली हो। उन्हों नें ग़जलों के अतिरिक्त गीत और कविताएँ भी लिखी जिन्हों ने धर्मयुग, साप्ताहिक हिन्दुस्तान, नवभारत टाइम्स, दैनिक हिन्दुस्तान, कादम्बिनी, नवनीत जैसी देश की महत्वपूर्ण पत्र-पत्रिकाओं में स्थान पाया। वे सदैव साहित्यिक संस्थाओं से जुड़े रहे। वे आज भी विकल्प जनसांस्कृतिक मंच के सक्रिय पदाधिकारी हैं। आठ अप्रेल 2011 की शाम इंडिया अगेन्स्ट करप्शन आंदोलन के संबंध में नगर की गैरराजनैतिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों की बैठक में अखिलेश जी मिले। उन्हों ने अपने एक गीत का उल्लेख किया। मैं यहाँ वही गीत आप के लिए प्रस्तुत कर  रहा हूँ। 

    दुर्ग इनका तोड़ना पड़ेगा दोस्तों

    • अखिलेश 'अंजुम'


    आम आदमी का क़त्ल खेल हो न जाए
    लोकतंत्र देश में मखौल हो न जाए
    और देश फिर कहीं ये जेल हो न जाए
    न्यायपालिका कहीं रखैल हो न जाए

    आप को ही सोचना पड़ेगा दोस्तों
    ये प्रवाह रोकना पड़ेगा दोस्तों।

    बढ़ रहा है छल-कपट-गुनाह का चलन
    और बदल रहा है ज़िन्दगी का व्याकरण
    प्रहरियों का हो गया है भ्रष्ट आचरण 
    भ्रष्टता को राजनीति कर रही नमन

    क़ायदे-नियम यहाँ पे अस्त-व्यस्त हैं
    मंत्रियों में कातिलों के सरपरस्त हैं
    देश इनकी दोस्तों जागीर हो न जाए
    और ये हमारी तक़दीर हो न जाए

    आप को ही सोचना पड़ेगा दोस्तों
    दुर्ग इनका तोड़ना पड़ेगा दोस्तों।

    धर्म जिसने जोड़ना सिखाया था हमें
    रास्ता उजालों का दिखाया था हमें
    आज वो ही धर्म है सबब तनाव का
    जिसने कर दिया है लाल रंग चुनाव का

    आदमी की जान है तो ये जहान है
    धर्म है, चुनाव और संविधान है
    मज़हबों के नाम  पर न तोड़िए हमें
    राह पर गुनाह की न मोड़िए हमें

    तोड़ने की साज़िशों का काम हो न जाए
    धर्म, राजनीति का गुलाम हो न जाए

    आप को ही सोचना पड़ेगा दोस्तों
    कुछ निदान खोजना पड़ेगा दोस्तों।

    चाह आज जीने की बबूल हो गई 
    हर खुशी हमारी आज शूल हो गई
    बोझ से दबी हुई हर एक साँस है
    आज आम आदमी बड़ा उदास है

    जानकर कि दुश्मनों के साथ कौन हैं
    जानकर कि साजिशों के साथ कौन हैं
    अब सितम का हर रिवाज़ तोड़ने उठो
    अब सितम की गर्दनें मरोड़ने उठो 

    चेतना का कारवाँ ये थम कहीं न जाए
    धमनियों का ख़ून जम कहीं न जाए

    आप को ही सोचना पड़ेगा दोस्तों 
    आँसुओं को पोंछना पड़ेगा दोस्तों।