Friday, March 14, 2008

भारतीय हॉकी में अमृत की बूंद बची नहीं है, हलाहल कौन पिएगा?


यह श्री बीजी जोशी का आलेख है। वे तीस वर्षों से भी अधिक समय से लगातार विश्व हॉकी के अध्येता और रिकॉर्ड संग्रह कर्ता हैं। हॉकी का कोई भी खोया हुआ रिकॉर्ड सिर्फ और सिर्फ बीजी जोशी से ही मिल सकता है, ऐसा विश्व हॉकी में माना और जाना जाता है। वे तीस वर्षों से लगातार हॉकी पर लिख रहे हैं। भारतीय हॉकी की अधोगति और ओलम्पिक हॉकी से बाहर होने से उन से अधिक वेदना किसे हुई होगी। अपनी इस वेदना को उन्होंने 11 मार्च को नई दुनियाँ, इन्दौर में प्रकाशित आलेख में व्यक्त किया है। उन्हों ने यह आलेख अनवरत पर प्रकाशन के लिए विशेष रुप से अनुमत किया है। उन का कहना है कि " ईमानदार चयन नहीं करना हमारा चरित्र हो गया है, तो भारत में हॉकी के जीवित रहने की गुंजाइश ही कहाँ शेष है?" -दिनेशराय द्विवेदी

धृतराष्ट्र हैं हॉकी के कर्ताधर्ता

(बीजी जोशी)

हॉकी और भारत एक-दूसरे के पर्याय नहीं रहे। लगातार 18 मर्तबा ओलिम्पिक खेल कर रिकॉर्ड 8 स्वर्णपदक जीती नीली जर्सी के बगैर आगामी बीजिंक ओलिम्पिक मैं हॉकी खेल का अचंभा होगा। 1928 के एम्सटर्डम ओलिम्पिक से निरंतर हॉकी प्रेमियों को अभिभूत करने वाली भारतीय बाजीगरी वहाँ नहीं होगी।
हम भारतीयों की अपने-पराए के चरित्र की पराकाष्ठा ने यह दिन दिखाया है। राष्ट्र की प्रतिष्ठा के आगे निजी समक ने यह काला अध्याय सिख दिया है। स्लेप हिट मार कर ढी में खलबली मचाना, फ्री हिट पर काहिन स्लॉथ शॉट से शर्तिया गोल अवसर बनाना, पेनल्टी कॉर्नर पर ड्रेग फ्लिक से गोल दागना व विपक्षी पेनल्टी कॉर्नर को निष्फल करने की चार विधाओं में दक्ष ऑल राउण्डर संदीपसिंह टीम में नहीं लिए गए।
घाघ टीमों के विरुद्ध अनुभव भरा कौशल ही जीत लाता है, जंग लगी बंदूक से लड़ाई जीती नहीं जाती। सब चलता है वाला नजरिया आत्मघाती बना। खेल जीवन की सर्वोच्च साधना ओलिम्पिक स्वर्ण के परिप्रेक्ष्य में अन्य देशों में भी हॉकी पल्लवित है। जनवरी की ही प्रीमियर हॉकी लीग में मैन ऑफ द टूर्नामेंट बने अर्जुन हलप्पा, श्रेष्ठतम गोली भरत क्षेत्री व टॉप स्कोरर दीपसिंह राष्ट्रीय टीम की धरोहर नहीं बन पाए। सच है हॉकी के कर्ताधर्ता धृतराष्ट्र हैं।
मैच गोल मार कर जीते जाते हैं। सोमवार को ब्रिटेन के विरुद्ध भी दोनों टीमों को समान पाँच पेनल्टी कॉर्नर मिले। प्रशिक्षक कारवाल्हो के चहेते रघुनाथ से गोल बने नहीं। लंदन विश्वकप (1986) में अनुभवहीन टीम ने आखिरी पायदान छुई थी। तब के प्रशिक्षक हरमीक सिंह व अजीतपाल सिंह आज मुख्य चयनकर्ता हैं। वहाँ खेले जो किम कारवाल्हो मुख्य प्रशिक्षक हैं। जो किम ने संदीप को नहीं लेने का जोखिम लेकर भारतीय हॉकी की समाप्ति में खुद को मुलजिम बना लिया है।

लंदन ओलम्पिक (1948) में ब्रिटेन को हराकर आजाद भारत ने पहला स्वर्ण पदक जीता था। भारत को हराने में ब्रिटेन को 37 वर्ष लगे थे। कराची चैम्पियंस ट्रॉफी (1986) में कारवाल्हो व अजीज ने पेनल्टी स्ट्रोक गँवा कर ब्रिटेन से 0-1 से हार कबूल की थी। अभी सैंटियागो में पुनः इन खराब तकदीर वालों ने भारत की स्याह तस्वीर पेश कर हॉकी प्रेमियों को गहरा सदमा दिया है। भारतीय हॉकी में अमृत की बूंद बची नहीं है। हलाहल कौन पिएगा।

  • (नई दुनियाँ, इन्दौर से साभार)

इस सप्ताह की सर्वोत्तम पोस्ट


आज सुबह-सुबह पूरे हफ्ते का आनन्द प्राप्त हो गया। डॉक्टर अमर कुमार की पोस्ट "जात पूछ साधो की" पढ़ कर। अभी हफ्ता पूरा होने में दो दिन बाकी हैं, पर हम घोसित कर दिए, इस पोस्ट को इस साल की, नहीं नहीं, साल तो अभी सुरू हुआ ही है, इस महिने की, नहीं,वह भी नहीं, वह भी अभी आधा भी नहीं गुजरा, इस हफ्ते की सबसे उत्तम पोस्ट। कोई ईनाम की दरकार मुझे है डॉक्टर अमर कुमार को। मगर जो हमने कह दिय़ा वही सच है।





और पाठक अच्छी तरह समझ लें, हम पूरे होस-हवास में, समझ-बूझ कर, अपनी सर्बोत्तम.... क्या कहते हैं उसे? ... चेतना से, बिना किसी से डरे-डराए, बिना किसी के बहकाए, ये घोसित किए हैं। और ये भी समझ लें, ये होली का मजाक नहीं है। होली का हफ्ता तो सुरु ही नहीं हुआ, अभी सुरुर कहाँ से आएगा? हाँ, ये भी हो सकता है कि ये पोस्ट आगे चल कर महिने की, और साल की भी सर्वोत्तम पोस्ट घोसित हो सकत है।

Tuesday, March 11, 2008

10 मार्च के दिन को वे राष्ट्रीय शर्म दिवस के रुप में क्यों मनाएँ

भारत में 10 मार्च के दिन को राष्ट्रीय शर्म दिवस के रुप में मनाया जाना चाहिए। क्यों कि आज यह जानकारी हमें मिली कि भारत के राष्ट्रीय खेल हॉकी की राष्ट्रीय टीम भविष्य में कभी ओलम्पिक खेलों में भाग ले पाएगी; यह अब केवल भारतीय जनता का सपना भर बन कर रह गया है।

यह वही खेल है पहली बार जिस खेल को खेलने के लिए भारत का एक देश के रुप में प्रतिनिधित्व करने वाली टीम ने 1926 में देश के बाहर आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैण्ड खेलने के लिए गई। पहली बार यूरोप जापान में प्रतिनिधित्व करने वाली टीम भी हॉकी की ही थी। 1928 पूरे एशिया की ओर से ओलम्पिक स्वर्ण पदक लाने वाली टीम भी भारत की हॉकी टीम ही थी। मेजर ध्यानचंद इस खेल के सरताज थे जिन्हों ने 1926 से 1948 तक अपने जीवन काल में हजार से अधिक गोल किए।

यह खेल हमें अंग्रेजों से मिला। लेकिन हम ने गुलामी के दौर में भी जब हमारे खिलाड़ियों के पास पहनने को जूते भी नहीं थे जूते वाले खिलाड़ियों की टीमों के विरुद्ध बिना जूते खेल कर अपना वर्चस्व स्थापित किया।

यही कारण है कि हम ने इस खेल को आजादी के बाद अपने राष्ट्रीय खेल का दर्जा दिया।

आज तक भी ओलम्पिक खेलों के सब से अधिक स्वर्ण पदक हासिल करने वाली भारतीय हॉकी टीम अब से शायद ही किसी ओलम्पिक में हिस्सा ले पाएगी। यह एक कड़वी सचाई है जिसे जुबान पर लाते हॉकी संघ और इस खेल के लिए जिम्मेदार लोगों को शर्म आ रही है।

आज यह खबर टीवी पर देखते ही मैं सन्न रह गया। निवाला मुहँ तक पहुँचने के स्थान पर हाथ में ही रह गया।

देश के ही नहीं दुनियाँ भर में प्रसिद्ध हाँकी के रिकार्ड को सहेजने वाले हॉकी स्क्राइब श्री बी.जी. जोशी से दिन में फोन पर बात हुई तो वे बहुत दुखी थे। उन्हों ने एक वाक्य में कहा नाउ इण्डियन हॉकी इज आउट ऑफ औलम्पिक्स फॉर ऐवर

मैं समझा वे गहरे दुःख और सदमे के कारण ऐसा कह रहे हैं। मैने उन से दुबारा पूछा। नहीं, ऐसा कैसे हो सकता है?

उन्हों ने फिर कहा- बिलकुल सही है, इट इज फॉर ऐवर

मैं ने उन्हें फिर भी सदमे में ही समझा।

शाम को साढ़े छह बजे उन के घर फोन किया तो वे घर नहीं पहुँच सके थे।

आठ बजे रात्रि फिर फोन किया। तब पुनः उन से बात हुई। तब भी उन का यही कहना था इट इज फॉर ऐवर

वहाँ इतनी प्रतिस्पर्धा है कि भारतीय हॉकी टीम का दुबारा ओलम्पिक में प्रवेश अब असंभव है।

तिस पर भारतीय हॉकी के सर्वेसर्वा गिल साहब अब भी तसल्ली से कह रहे हैं- मैं बाद में इन चीजों का जवाब दूँगा। हमारे पास कोई इंस्टेंट कॉफी मशीन नहीं है कि आपको परिणाम तुरंत मिल जाए। आपको अपना स्थान वापस पाने के लिए समय लगता है। हमने सभी चीजें व्यवस्थित कर दी हैं और परिणाम में कुछ समय लगेगा।

गिल साहब और उन के साथियों ने क्या व्यवस्थित किया? यह सारे देश ने देख लिया है। अब परिणाम भी सामने है। और कौन से परिणाम की वे आशा लगाए बैठे हैं?

हाँ, उन की जिम्मेदारी तो जो है सो है ही। क्या राष्ट्रीय खेल होने के नाते क्या खेल मंन्त्री की कोई जिम्मेदारी नहीं है?

कम से कम एक जिम्मेदारी तो वे निभा ही दें कि 10 मार्च के दिन को वे राष्ट्रीय शर्म दिवस अवश्य घोषित करवा दें।

इस विषय पर अब तक पूर्ण-विराम में नलिन विलोचन ने हॉकी का अंत ?; Shuruwat: जिंदगी सिखाती है कुछ में राजीव जैन ने काश सच होता चक दे; पहलू में चंद्रभूषण ने चकते-चकते चक ही दी हॉकी; डेटलाइन इंडिया में आलोक तोमर ने क्योंकि हॉकी क्रिकेट नहीं है; कोतुहल पर nadeem ने भारतीय हॉकी: धन्य हो के पी एस गिल साहब, आज फेडरेशन ने ४ हज़ार रुपये कमाए और दीपक भारतदीप की ई-पत्रिका पर दीपक भारत दीप ने दुआएं ही कर सकते हैं कि हाकी का अस्तित्व बचे आलेख लिखे हैं। सभी आलेख महत्वपूर्ण हैं। इन चिट्ठाकारों को मेरा नमन और पहलू में चंद्रभूषण के चकते-चकते चक ही दी हॉकी पर विमल वर्मा ने एक महत्वपूर्ण टिप्पणी की है, उन्हें भी नमन।

अनवरत पर कल की पोस्ट 10 मार्च राष्ट्रीय शर्म दिवस मनाएँ पर प्रतापग्रही जी, mamta जी, ज्ञानदत्तजी, अरुण जी, घोस्ट बस्टर जी, संजीत त्रिपाठी जी और राज भाटिय़ा जी की टिप्पणियाँ मिलीं। यह पोस्ट भारतीय हॉकी को लगे सदमे की सद्य प्रतिक्रिया थी। संजीत जी तो लिफाफा देख कर मजमून भी भांप चुके थे। उन के साथ साथ अन्य सभी साथी टिप्पणीकारों को प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद।




Monday, March 10, 2008

10 मार्च राष्ट्रीय शर्म दिवस मनाएँ



आज 10 मार्च को सभी भारतीय राष्ट्रीय शर्म दिवस मनाएँ।

क्यों ?

आज संध्या को घोषणा की जाएगी।

..............दिनेशराय द्विवेदी..............

Sunday, March 9, 2008

“विश्व सुंदरी”

कल आलेख पोस्ट होने के तुरन्त बाद ही एक और कविता महेन्द्र नेह से प्राप्त हुई। मुझे लगा कि वे इसे कल अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आप तक पहुँचाना चाहते थे। तब तक ब्लॉगर पर कुछ अवरोध आ गया। मैं ने उन्हें नहीं बताया। लेकिन आज इस कविता विश्व सुंरीको आप के समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ.............

विश्व सुंरी


महेन्द्र 'नेह'

चलते चलते

राह में ठिठक गई

इस एक अदद औरत को क्या चाहिए?

इस के पावों को चाहिए

दो गतिमान पहिए

ले जाएँ इसे जो

धरती के ओर-छोर

इसे चाहिए

एक ऐसा अग्निकुण्ड

जिस में नहा कर

पिघल जाए

इस की पोर-पोर में जमी बर्फ

दुनियाँ के शातिर दिमाग

लगा रहे हैं हिसाब

कितने प्रतिशत आजादी

चाहिए इसे?

गुलामी से कितने प्रतिशत चाहिए निजात?

ये, कहीं बहने ना लग जाए

नदी की रफ्तार

कहीं उतर न आए सड़क पर

लिए दुधारी तलवार..........

इस से पहले कि

बाँच सके यह

किताब के बीच

फड़फड़ाते काले अधर

सजा दिए जाएँ

इस के जूड़े में रंगीन गजरे

गायब कर दी जाए

इस की असल पहचान

स्वयं के ही हाथों

उतरवा लिए जाएँ

बदन पर बचे खुचे परिधान

गहरे नीले अंधेरे के बीच

अलंकृत कर दिया जाए

इस के मस्तक पर

विश्व सुंदरी का खिताब

इस से पहले

कि हो सके यह

सचमुच आजाद.............

* * * * * * *

Saturday, March 8, 2008

महिलाओं पर महेन्द्र “नेह” की कविता और गीत


महेन्द्र नेह से आप परिचित हैं। उन के गीत हम सब नीग्रो हैं और "धूप की पोथी" के माध्यम से करीब दस दिनों से वे घुटने के जोड़ की टोपी (knee joint cap) के फ्रेक्चर के कारण पूरे पैर पर बंधे प्लास्टर से घर पर कैद की सजा भुगत रहे हैं। आज शाम उन से मिलने गया तो अनायास ही पूछ बैठा महिलाओं पर कविता है कोई? फिर फोल्डरों में कविताऐं तलाशी गईं। सात गीत-कविताऐं उन के यहाँ से बरामद कर लाया। एक उन के पसन्द की कविता और एक मेरी पसंद का गीत आप के लिए प्रस्तुत हैं-

महेन्द्र नेह की पसंद की कविता.........

आओ, आओ नदी - महेन्द्र नेह

अनवरत चलते चलते

ठहर झाती है जैसे कोई नदी

इस मक़ाम पर आकर ठहर गई है

इस दुनियाँ की सिरजनहार

इसे रचाने-बसाने वाली

यह औरत।

इतिहास के इस नए मोड़ पर

तमन्ना है उसकी कि लग जाऐं

तेज रफ्तार पहिए उस के पाँवों में

ले जाएं उसे धरती के ओर-छोर।

चाहत है उसकी उग आएं उसके हाथों में

पंख, और वह ले सके थाह

आसमान के काले धूसर डरावने छिद्रों की।

इच्छा है उसकी, जन्मे उसकी चेतना में

एक सूरज, पिघला दे जो

उसकी पोर-पोर में जमी बर्फ।

सपना है उसका कि

समन्दर में आत्मसात होने से पहले

वह बादल बन उमड़े-घुमड़े बरसे

और बिजली बन रचाए महा-रास

लिखे उमंगों का एक नया इतिहास

ब्रह्माण्ड के फलक पर।

इधर धरती है, जो सुन कर उस के कदमों की आहट

बिछाए बैठी है, नए ताजे फूलों की महकती चादर

आसमान है जो उस की अगवानी में बैठा है,

पलक पांवड़े बिछाए

और समन्दर है जो

उद्वेलित है, पूरे आवेग में गरजता-तरजता

आओ-आओ नदी

तुम्हीं से बना, तुम्हारा ही विस्तार हूँ मैं

तुम्हारा ही परिवर्तित सौन्दर्य

तुम्हारे ही हृदय का हाहाकार...........

*************

मेरी पसंद का गीत................

नाचना बन्द करो - महेन्द्र नेह

तुम ने ही हम को बहलाया

तुम ने ही हम को फुसलाया,

तुम ने ही हम को गली-गली

चकलों-कोठों पर नचवाया।

अब आज अचानक कहते हो

मत थिरको अपने पावों पर,

अपनी किस्मत की पोथी को

अब स्वयं बाँचना बन्द करो।

मत हिलो नाचना बन्द करो।।

तुम ने ही हम को दी हाला

तुम ने ही हमें दिया प्याला,

तुम ने औरत का हक छीना

हम को अप्सरा बना ड़ाला।

अब आज अचानक कहते हो

मत गाओ गीत जिन्दगी के,

मुस्कान अधर पर, हाथों में

अब हिना रचाना बन्द करो।

चुप रहो नाचना बन्द करो।।

तुम ने ही हम को वरण किया

तुम ने ही सीता हरण किया,

तुम ने ही अपमानित कर के

यह भटकन का निष्क्रमण किया।

अब आज अचानक कहते हो

मत निकलो घर से सड़कों पर,

अपनी साँसों की धड़कन को

बेचना-बाँटना बन्द करो।

मत जियो, नाचना बन्द करो।।

*********

अब आप बताएं, किस की पसन्द कैसी है?

Monday, March 3, 2008

शहर न हुए, हो गए ब्लेक होल।

ब्लेक होल
  • दिनेशराय द्विवेदी
शहर, शहर न हुए,
हो गए ब्लेक होल,
जो भी आता है नजदीक
खीच लिया जाता है उस के अन्दर।
हाँ रोशनी की किरन तक
उस के अन्दर।
नहीं निकलता कोई भी उस से बाहर
कभी नहीं।

क्या है,इस ब्लेक होल में?
कोई नहीं जानता है, या
जानता है कोई कोई।
अभी-अभी किसी बड़े विज्ञानी ने बताया
चन्द रोशनी की किरणें निकल पाती हैं
ब्लेक होल के बाहर
या फिर निकल पड़ता है सब कुछ ही बाहर
जब फट पड़ता है
अपने ही दबाव से ब्लेक होल।
फिर से बनते हैं सितारे, ग्रह, उपग्रह, क्षुद्रग्रह, पूंछ वाले तारे और उल्काएं भी।
न जाने और क्या क्या भी।

तो आओ तलाश करें उन किरनों को,
जो निकल आई हैं उस ब्लेकहोल के बाहर
और शहर, और शहरों के बाहर
पूछें उन से क्या है शहर के भीतर
कैसा लग रहा है,
शहर के बाहर?
और कितना है दबाव अन्दर
कि कब टूट रहा है ब्लेक होल?
कि कब बनेंगे?
नए सितारे, नए ग्रह, नए उपग्रह,
नए क्षुद्रग्रह, पूंछ वाले नए तारे
और नई उल्काएं।
**************************************

ताजा विज्ञान समाचार अब हिन्दी ब्लॉग "कल की दुनियाँ" पर

आप ने हिन्दी ब्लॉग "शब्दों का सफर" और "अदालत " देखें होंगे। इन में से एक हमें नए शब्दों, उन की रिश्तेदारी से परिचित कराते हुए हमारी शब्द सामर्थ्य का विकास कर रहा है। तो दूसरा न्याय जगत की ताजा खबरों से अवगत कराता रहता है। इन दोनों ही चिट्ठों का महत्व प्राथमिक है। ये हमारे ज्ञान को तो बढ़ाते ही हैं हमें लेखन के लिए सामग्री भी उपलब्ध कराते हैं।
इसी श्रँखला में एक नए हिन्दी चिट्ठे "कल की दुनियाँ" ने और जन्म लिया है- यह चिट्ठा हमें आने वाले कल की दुनियाँ के लिए विज्ञान के योगदान की ताजा सूचनाऐं आप तक पँहुचा रहा है। यह आज प्रत्येक चिट्ठा पाठक की जरुरत था। सभी को इस चिट्ठे को रोज पढ़ना चाहिए। चिट्ठाकारों के लिए तो नयी वैज्ञानिक जानकारियाँ प्राप्त करने का यह सर्वोत्तम स्रोत साबित हो सकता है।
इस चिट्ठे के चिट्ठा कार ने अपने संबंध में जानकारियाँ उपलब्ध नहीं कराई हैं। लेकिन कोई अपनी पहचान छुपा कर भी हिन्दी पाठकों की सेवा कर रहा है, यह स्तुत्य है।
आप इस ब्लॉग पर यहाँ "कल की दुनियाँ" पर क्लिक कर के पहुँच सकते हैं।